हाल ही में सिंगर कारालीसा मोंतेरो ने प्रो-भाजपा प्रोपगेंडा वेबसाइट ऑप-इंडिया के एक तथाकथित आर्टिकल का मॉर्फ़्ड स्क्रीनशॉट शेयर कर दिया था. इसमें ग़लत दावा किया गया था कि पर्यावरण ऐक्टिविस्ट ग्रेटा थुन्बेरी का असली नाम ‘ग़ज़ाला भट’ है. कारालिसा ने बाद में ये ट्वीट डिलीट कर लिया. इसके बाद एक और स्क्रीनशॉट वायरल हो रहा है. लेकिन इस बार, खुद कारालिसा का ट्वीट बताकर. इसमें सिंगर कारालिसा का एक तथाकथित ट्वीट दिख रहा है जिसमें लिखा है, “जब भी किसी हिन्दू को मारा जाता है, मुझे इससे चरम सुख मिलता है. मोदी भले ही कांग्रेस मुक्त भारत का सपना देख रहे हों, लेकिन हमें जल्द ही हिन्दू मुक्त इंडिया देखने को मिल सकता है. आमीन!”

ऑप-इंडिया ने हिंदी और अंग्रेज़ी में इस तथाकथित ट्वीट पर आर्टिकल लिख दिया. इस आर्टिकल में ऑप-इंडिया ने कारालिसा पर निजी हमला तो किया ही, साथ में उन्हें एक ‘फे़क न्यूज़ पेडलर’ के तौर पर पेश करने की कोशिश की. विडम्बना कहें या मज़ाक, ऑप-इंडिया आगे ये भी कहता है कि ये ट्वीट फे़क हो सकता है.

This slideshow requires JavaScript.

फे़क न्यूज़ और ग़लत दावों वाले कॉलम में अक्सर अपनी जगह बनाने वाले भाजपा सदस्य सुरेन्द्र पूनिया ने भी ये स्क्रीनशॉट शेयर किया. आर्टिकल लिखे जाने तक 5,000 से ज़्यादा लोग इसे रीट्वीट भी कर चुके हैं.

ट्विटर यूज़र @woman_tigress ने ये स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए लिखा, “क्या ये नियमों के खिलाफ नहीं है? @Twitter” इसे भी 5,000 से ज़्यादा लोगों ने रीट्वीट किया.

फ़र्ज़ी ट्वीट

इस स्क्रीनशॉट पर तारीख़ ‘1 जनवरी’ लिखी है. एक महीने बाद किसी ट्वीट का अचानक शेयर किया जाना ही संदेह पैदा करता है.

इस ट्वीट की एक ओरिजिनल ट्वीट से तुलना करने पर कई फ़र्क नज़र आते हैं.

1. ऊपर दायीं तरफ़ ड्रॉप डाउन के लिए नीचे की दिशा में तीर का निशान है, जबकि वहां तीन डॉट्स होते हैं.

2. तारीख़ में 2021 के बाद डॉट नहीं है. न ही ट्वीट ये जानकारी है कि ट्वीट किस डिवाइस से किया गया.

3. वायरल स्क्रीनशॉट में रीट्वीट्स, कोट-ट्वीट्स और लाइक्स दिखाने वाला बार भी नहीं दिख रहा है.

ये स्क्रीनशॉट शेयर करने वाले एक यूज़र को कारालिसा ने जवाब देते हुए लिखा, “अपने डैड व्हाट्सऐप यूनिवर्सिटी को बोलो कि ये बंद करे. और इस फे़क ट्वीट के खिलाफ़ केस दर्ज करवाया जा चुका है.”

ऑप-इंडिया के संस्थापक ने ये फ़र्ज़ी ट्वीट शेयर किया

ऑप-इंडिया के संस्थापक राहुल रौशन ने कारालिसा के ग्रेटा थुन्बेरी वाले ट्वीट का जवाब इस फ़र्ज़ी स्क्रीनशॉट से दिया था. बाद में उन्होंने अपना ट्वीट डिलीट कर दिया. आर्काइव वर्ज़न यहां देखें.

कमेंट में कई यूज़र्स ने लिखा कि कारालिसा के ट्वीट का बदला लेने के लिए ये स्क्रीनशॉट खुद राहुल रौशन ने बनाया है. (पहला, दूसरा और तीसरा)

यानी, ऑप-इंडिया ने सिंगर कारालिसा मोंतेरो को टारगेट करने के लिए फ़र्ज़ी स्क्रीनशॉट को आधार बनाकर दो आर्टिकल्स लिख दिए. इस स्क्रीनशॉट को खुद ऑप-इंडिया के फ़ाउंडर राहुल रौशन ने शेयर किया था.


फ़र्ज़ी पत्रकारों की फ़र्ज़ी कहानी से लेकर किसानों के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करने वाले BJP वर्कर्स की असलियत तक

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged: