शाहरुख़ खान को Jio के ऐड से निकाला गया, फ़र्ज़ी अकाउंट्स ने फैलाई ये अफ़वाहें

पिछले कुछ हफ़्तों में कई फ़ेमस लोगों के नाम पर बने फ़ेक अकाउंट्स हज़ारों लाइक्स और रिट्वीट पाने में कामयाब रहे. इन हैंडल्स पर फ़र्ज़ी होने का संदेह पैदा करने वाले निशान होने, असली अकाउंट को वेरिफाई करने वाला ‘ब्लू टिक’ न होने और मीडिया में रिपोर्ट न किए गए विवादित स्टेटमेंट होने के बावजूद कई लोग इनके जाल में फंस गए. इस आर्टिकल में ऐसे ही कुछ अकाउंट्स की पड़ताल की गई है. हम विस्तार से बताएंगे कि कैसे फ़र्ज़ी अकाउंट्स के जाल ने महत्वपूर्ण लोगों के नाम और फ़ोटो का इस्तेमाल करके हज़ारों फ़ॉलोवर्स जोड़ लिए, फिर अपने व्यूज़ बढ़ाने के लिए ग़लत जानकारी पोस्ट की. इस प्रोसेस में इन्होंने एकदूसरे को आगे बढ़ाया.

1. मुकेश अंबानी

ट्विटर अकाउंट @Realmukeshamban ने अपने हैंडल में रियल लिख रखा है ताकि यह असली लगे. हाल ही में इस अकाउंट से ट्वीट किया गया, “मैं अपनी Jio सिम के एड से शाहरुख खान को निकाल रहा हूँ। आपकी क्या राय है बताईये!!” इस ट्वीट को 50,000 से ज़्यादा लोगों ने लाइक किया और 10,000 से ज़्यादा लोगों ने रीट्वीट किया.

अंबानी का कोई ऑफ़िशियल ट्विटर अकाउंट नहीं है. न ही किसी मीडिया संस्थान ने रिपोर्ट किया कि मुकेश अंबानी ने ऐसा कोई बयान दिया है.

2. ख़ुद को मुकेश अंबानी बताने वाला एक और फ़र्ज़ी अकाउंट

मुकेश अंबानी के नाम के एक और ट्विटर अकाउंट ने शाहरुख़ खान का नाम लेकर वैसा ही ट्वीट किया. इस अकाउंट का यूज़रनेम @ambani_mukesh1 है और इसके बायो में ‘रिलायंस इंडस्ट्रीज़’ लिखा है.

3. अर्नब गोस्वामी

अर्नब गोस्वामी के नाम से दो ट्विटर अकाउंट्स ने बाद में बहुत सारे लाइक्स और रिट्वीट हासिल किए. आयरनी ये है कि दोनों एकाउंट्स के बायो में ‘पैरोडी’ लिखा है फिर भी लोग इनके झांसे में आ गए.

पहला अकाउंट @ArnwMGoswami है. यह अकाउंट पहले मुकेश अंबानी को डेडिकेटेड था, यह इस हैंडल से हुए ट्वीट देखने के बाद पता चला.

इसके अलावा एक और अकाउंट जो ख़ुद को गोस्वामी का पैरोडी बताता है, उसने बहुत से यूज़र्स को बेवकूफ़ बनाया. इस अकाउंट का यूज़रनेम @GoswamiArnaw है. इस अकाउंट ने फ़र्ज़ी ख़बर फैलाई कि आयुष मंत्रालय ने पतंजलि की कोरोनिल दवा अप्रूव कर दी है.

कई यूज़र्स ने अकाउंट बनाने वाले को ‘सर’ कहकर पुकारा है, यानी इन्हें यह हैंडल अर्नब गोस्वामी का लगता है.

4. सोनू निगम

सिंगर सोनू निगम के नाम से अकाउंट बनाने वाले एक हैंडल @Realsonu_nigam ने भी शाहरुख़ खान के ख़िलाफ़ ट्वीट किया. इसने लिखा, “Jio के मालिक मुकेश अंबानी से हमारी प्रार्थना हैं शाहरुख खान को अपनी ऐड से निकालो वर्ना हम हिंदुस्तानी अपने मो.से Jio सिम निकाल फेंक देगे..”

दिलचस्प ये है कि इन सभी अकाउंट्स ने शाहरुख़ खान के ख़िलाफ़ ट्वीट किए हैं, जिससे लगता है कि आपस में इनका कनेक्शन है. सोनू निगम का फ़र्ज़ी अकाउंट चलाने वाले ने निगम की फोटो ट्वीट की और लिखा, “फाइनली ट्विटर जॉइन किया.” इसे @RealMukeshAmbani ने रिट्वीट किया है.

अगर कोई @Realsonu_nigam के होम पेज पर जाए तो ट्विटर की तरफ़ से “संदिग्ध गतिविधि” का मेसेज लिखकर आता है.

5. कंगना रनौत

पहले रिपब्लिक टीवी के अर्नब गोस्वामी के नाम से हैंडल चलाने वाले ने बाद में हैंडल का नाम और प्रोफ़ाइल पिक बदलकर उसे बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत के नाम से बना लिया. पहले इसका यूज़रनेम @Arnab52222 था जो बाद में बदलकर @Kangana_Ra हो गया. नीचे स्क्रीनशॉट्स में वही ट्वीट देखा जा सकता है जिसमें दावा किया गया था कि आयुष मंत्रालय ने पतंजलि की कोरोनिल दवा को अप्रूव किया है. यह एक झूठा दावा था जिसे ऑल्ट न्यूज़ ने रिपोर्ट किया था. रिपोर्ट यहां पढ़ सकते हैं.

ग़ौर करने वाली बात है कि अर्नब गोस्वामी और कंगना रनौत के ऑफ़िशियल ट्विटर हैंडल नहीं हैं. @KanganaTeam नाम से एक हैंडल रनौत की डिजिटल टीम संभालती है.

इस फ़ेक हैंडल से भी शाहरुख़ खान के ख़िलाफ़ ट्वीट करके दावा किया गया कि उनकी जगह Jio के प्रचार में अब अक्षय कुमार को लिया जाएगा.

इन सभी अकाउंट्स ने ट्वीट्स की रीच बढ़ाने के लिए एकदूसरे को रिट्वीट किया है जिससे पता चलता है कि यह फ़ेक न्यूज़ और प्रोपेगैंडा फैलाने के लिए जान बूझकर रणनीति के तहत किया जा रहा है. इन अकाउंट्स ने सरकार के पक्ष में ट्वीट किए हैं, बॉलीवुड के, ख़ासतौर से खान्स के ख़िलाफ़ ट्वीट किए हैं और पतंजलि का कोरोनिल विवाद होने के बाद से आयुर्वेद को प्रमोट कर रहे हैं.

ऑल्ट न्यूज़ ने इससे पहले एक आर्टिकल में बताया था कि दुनिया के ताकतवर नेताओं के नाम से फ़ेक हैंडल्स बनाए गए जिनको भाजपा के सदस्यों सहित कई लोगों ने सच मान लिया. यह भारत-चीन बॉर्डर पर तनाव की ख़बरें आने के बाद हुआ था. इनके बीच चलने वाले पैटर्न को आसानी से पहचाना जा सकता है. यूज़र्स को इन फ़ेक अकाउंट्स से बचना चाहिए क्योंकि ट्विटर अभी तक इनकी ग्रोथ को रोकने में कामयाब नहीं हो सका है.

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend