महिला ने की भाजपा नेता की पिटाई? MP कांग्रेस ने पुराना वीडियो गलत संदेश से शेयर किया

19 मार्च को, मध्य प्रदेश कांग्रेस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से, एक व्यक्ति की चप्पल से पिटाई करती एक महिला और उससे संबंधित न्यूज़ रिपोर्ट का एक वीडियो ट्वीट किया गया। इस ट्वीट को अब तक 1000 से ज्यादा बार रिट्वीट किया गया है। इस वीडियो में पिटते दिख रहे व्यक्ति को भाजपा कार्यकर्ता अश्विनी अरोरा बताया गया है।

“उत्तराखंड से BJP का एक #चौकीदार विधायक लड़कियों से छेड़खानी करता हुआ रंगे हाथ पकड़ा गया। चप्पल से हुई उसकी पिटाई।”

उपरोक्त संदेश के साथ यही वीडियो AAP के समर्थक, अमित मिश्रा ने ट्वीट किया, जिसे यह लेख लिखे जाने तक लगभग 2500 से ज्यादा बार रिट्वीट किया गया है। इसे आम आदमी पार्टी के सोशल मीडिया प्रभारी अंकित लाल और एक सत्यापित हैंडल @aartic02 द्वारा रिट्वीट किया गया। इस संदेश का मकसद भाजपा के “मैं भी चौकीदार” अभियान की मज़ाक उड़ाने का भी है। मध्य प्रदेश कांग्रेस के अनुसार वह व्यक्ति भाजपा नेता है, जबकि अमित मिश्रा का दावा है कि वह एक भाजपा विधायक हैं।

कई दूसरे लोगों ने मिश्रा के ट्वीट को संदर्भित करते हुए इसी संदेश के साथ ट्वीट किया है। एक फेसबुक पेज ‘सेव महाराष्ट्र फ्रॉम बीजेपी’ ने भी यह वीडियो इसी संदेश के साथ शेयर किया है।

भाजपा कार्यकर्ता का पुराना वीडियो

ऑल्ट न्यूज़ ने पाया कि सोशल मीडिया में शेयर किया गया वीडियो न केवल पुराना है, बल्कि इस वीडियो के साथ प्रचारित सूचना भी गलत और अधूरी है। अक्टूबर 2018 में, चप्पल से एक व्यक्ति की पिटाई करती एक महिला का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो गया था। बाद में, यह खबर आई थी कि वीडियो मे दिख रहा व्यक्ति भाजपा कार्यकर्ता है जिसे आईपीएस अधिकारी की पत्नी द्वारा, उसे कथित रूप से परेशान किए जाने पर, पीटा गया था। एबीपी न्यूज़ ने भी इस मामले पर खबर की, जिसका वीडियो उनके यूट्यूब चैनल पर 7 अक्टूबर 2018 को अपलोड किया गया था। एक वीडियो, जो वायरल क्लिप के साथ एबीपी न्यूज़ वीडियो क्लिप जोड़कर बनाया गया है, वह, सोशल मीडिया यूजर्स को गुमराह करने के लिए, बिना पर्याप्त जानकारी जोड़े हुए, सोशल मीडिया में प्रसारित किया जा रहा है।

महिला द्वारा पीटा गया व्यक्ति, कोई भाजपा विधायक नहीं, बल्कि, रुद्रपुर, उत्तराखंड के अश्विनी अरोरा नामक भाजपा कार्यकर्ता हैं। वीडियो में अरोरा की चप्पल से पिटाई करती महिला एक पुलिस अधिकारी की पत्नी है, किसी आईपीएस अधिकारी की पत्नी नहीं, जैसा दावा किया गया है। अक्टूबर 2018 में, हिंदुस्तान टाइम्स से बात करते हुए, मेट्रोपोलिस रेजिडेंट वेलफेयर सोसाइटी के अध्यक्ष देवेंद्र शाही ने कहा, “हमारी सोसाइटी में सितारगंज का एक भाजपा कार्यकर्ता अपने परिवार के साथ रहता है। वह, उनके (महिला के) मोबाइल पर अश्लील संदेश भेज रहा था। उन्होंने (महिला ने) हमें शनिवार को फोन किया और अपनी परेशानी बताई। यह जानकर, हम उस भाजपा कार्यकर्ता के फ्लैट पर गए, लेकिन अपनी गलती मानने की बजाय, उसने हमलोगों के साथ दुर्व्यवहार करना शुरू कर दिया – (अनुवाद)।”

पहले, अक्टूबर में, यही वीडियो वायरल हुआ था।

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend