2017 का वीडियो लोकसभा चुनाव में बुर्का पहनी महिलाओं द्वारा फर्ज़ी मतदान के रूप में वायरल

सोशल मीडिया में वायरल एक वीडियो में एक महिला, बुर्का-पहनी मतदाताओं के समूह से कथित रूप से नकली आधार कार्ड जब्त करते दिखाई पड़ती है। दावा किया जा रहा है कि यह महिला मुज़फ्फरनगर में भाजपा की मुस्लिम कार्यकर्ता थी। इस निर्वाचन क्षेत्र में 11 अप्रैल को मतदान हुआ। इस वीडियो से जुड़े संदेश में कहा गया है, “@संजीव बालियान-मुज़फ़्फ़रनगर अगेन,बीजेपी की मुस्लिम कार्यकर्ता द्वारा फ़र्ज़ी वोटिंग का रंगे हाथ पकड़ना,पहचान पत्र किसी और का वोट कोई और डाल रहा है।”

यह वीडियो, मुज़फ्फरनगर के भाजपा प्रत्याशी संजीव बाल्यान के आरोपों की पृष्ठभूमि में शेयर किया जा रहा है कि लोग, बुर्का पहने महिलाओं के रूप में फ़र्ज़ी वोट डाल रहे थे। इससे पहले, बाल्यान के दावों के समर्थन में, सोशल मीडिया में बुर्का-पहने पुरुषों की पुरानी तस्वीरें चलाई गई थीं, कि वे लोकसभा चुनावों में नकली वोट डाल रहे थे।

वीडियो शेयर करने के लिए इस्तेमाल किया गया एक और कैप्शन है, “#मुज़फ्फरनगर उत्तर प्रदेश में बुर्का पहने मुस्लिम महिलाओं को फर्जी मतदान में पकड़ा गया। क्या आप ऐसे @नरेंद्रमोदी को हराएंगे? चुनाव आयोग कहां है?”

यह वीडियो फेसबुक और व्हाट्सएप पर समान रूप से इस कैप्शन के साथ वायरल है — “उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में बुर्का पहनकर फर्जी वोटिंग करती हुई पकड़ी गयी मुस्लिम महिलाये।”

2017 का वीडियो

अगर कोई इस वीडियो को गौर से सुने तो शुरुआती कुछ सेकेंड में महिला अपना और अपनी पार्टी का नाम लेती है। “मैं बीएसपी प्रत्याशी शैला हूँ” कहते हुए उन्हें सुना जा सकता है। ऑल्ट न्यूज़ ने पाया कि 2017 में शैला खान नामक महिला बहुजन समाज पार्टी की ओर से रामपुर नगरपालिका अध्यक्ष की प्रत्याशी के रूप में मैदान में थीं।

“शैला खान बीएसपी फेक वोटिंग रामपुर इलेक्शन्स” की खोज करने पर, हमने पाया कि हाल का वायरल वीडियो — “रामपुर नगर निकाय चुनाव फर्जीवाड़ा” — के रूप में एक यूट्यूब यूजर द्वारा 2017 में पोस्ट किया गया था।

हालांकि, ऑल्ट न्यूज़ कथित घटना की कोई खबर ढूंढने में असमर्थ रहा, फिर भी, हमने पाया कि शैला खान वास्तव में बसपा कार्यकर्ता थीं। बसपा के एक चुनाव प्रचार पोस्टर में उनकी तस्वीर थी।

Posted by Momin Khan on Wednesday, 22 November 2017

इंटरनेट से एक पुराना वीडियो उठा लिया गया और अभी चल रहे चुनावों से संबंधित घटना के रूप में प्रसारित कर दिया गया। वीडियो में दिख रही महिला बसपा सदस्य थी, भाजपा कार्यकर्ता नहीं। मुज़फ्फरनगर से भाजपा उम्मीदवार संजीव बाल्यान के इस दावे के बाद कि मुज़फ्फरनगर में बुर्का पहने लोगों द्वारा फ़र्ज़ी वोट डाले गए हैं, गलत सूचना का इस्तेमाल कर उनके आरोप का समर्थन करने का यह दूसरा प्रयास था।

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend