फ़ैक्ट-चेक: हैदराबाद और मुंबई के अस्पतालों में कोरोना के कारण मरीज़ अस्पताल के बाहर लेटने को मजबूर?

अस्पताल के बाहर बेड पर लेटे हुए मरीज़ों का 1 मिनट का एक वीडियो सोशल मीडिया पर काफ़ी शेयर किया जा रहा है. ऑल्ट न्यूज़ को इस वीडियो की सच्चाई जानने के लिए कई रीक्वेस्ट मिलीं. इस वीडियो के बारे में लोग जानना चाहते हैं कि क्या ये वीडियो भारत के अस्पताल की हालिया स्थिति दिखा रहा है?

ऑल्ट न्यूज़ के ऑफ़िशियल एंड्रॉइड ऐप पर इस वीडियो की जांच के लिए मिलीं रिक्वेस्ट्स से मालूम हुआ कि ये वीडियो हैदराबाद के उस्मानिया अस्पताल का बताकर शेयर हो रहा है.

हमारे ऑफ़िशियल व्हाट्सऐप नंबर (+917600011160) पर भी इस वायरल वीडियो की जांच के लिए कई रिक्वेस्ट्स आई हैं. व्हाट्सऐप पर शेयर हो रहे इस वीडियो को यूज़र्स महाराष्ट्र के ठाणे-भिवंडी एरिया का बता रहे हैं.

फ़ैक्ट-चेक

ऑल्ट न्यूज़ ने वीडियो के फ़्रेम्स को गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च किया जिससे हमें पाकिस्तान के मीडिया आउट्लेट ‘सियासत’ की एक न्यूज़ रिपोर्ट मिली. 15 जून की इस रिपोर्ट में इस वीडियो को लाहौर के सर्विस अस्पताल का बताया गया है. रिपोर्ट के मुताबिक, ये वीडियो कोरोना वायरस से जुड़ा हुआ नहीं है.

रिपोर्ट में बताया गया है कि अस्पताल में शायद शॉर्ट सर्किट के कारण आग लग गई थी जिस वजह से मरीज़ों को अलग-अलग वॉर्ड से बाहर निकाला गया था.

वायरल वीडियो में दिखने वाली अस्पताल की ईमारत और गूगल मैप पर मौजूद सर्विस अस्पताल की तस्वीर को कम्पेयर करने पर ये बात साफ़ हो जाती है कि ये वीडियो पाकिस्तान के सर्विस अस्पताल का ही है.

की-वर्ड्स सर्च से हमें इस घटना के बारे में पब्लिश हुई कई मीडिया रिपोर्ट्स मिलीं. ‘गल्फ़ न्यूज़’ की रिपोर्ट के मुताबिक, ये घटना 13 जून को हुई थी. रिपोर्ट में वायरल वीडियो के बारे में भी ज़िक्र ये कहते हुए किया गया कि अस्पताल के बाहर बेड पर लेटे हुए मरीज़ों का वीडियो सोशल मीडिया में भ्रामक दावों के साथ शेयर हो रहा है. पाकिस्तानी मीडिया संगठन समा की रिपोर्ट में बताया गया है कि कम से कम 40 मरीज़ों को आग की वजह से शिफ़्ट किया गया है. ‘द नेशन’ की रिपोर्ट के मुताबिक, शिफ्टिंग की वजह से ऑक्सीजन की कमी के कारण एक 50 वर्षीय मरीज़ की मौत हो गई.

इस तरह लाहौर, पाकिस्तान के अस्पताल में लगी आग की घटना का वीडियो सोशल मीडिया में कोरोना के कारण भारत के अस्पतालों की हालत के झूठे दावे से शेयर किया जा रहा है.

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend