बांग्लादेश के चटगांव डिवीज़न के कुमिला में दुर्गा पूजा समारोह के दौरान कुरान के अपमान की एक कथित घटना को लेकर अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय के ख़िलाफ बढ़ती हिंसा में 6 लोगों की मौत हो गई. रंगपुर के पीरगंज़ उपज़िला के एक गांव में भीड़ ने घरों पर हमला किया. ये हिंसा एक “धार्मिक रूप से अपमानजनक” फ़ेसबुक पोस्ट से शुरू हुई जो हिंदू समुदाय के एक व्यक्ति की प्रोफ़ाइल से किया गया था.

ट्विटर हैंडल @DidYouKnowThis7 ने एक वीडियो शेयर करते हुए इसे बांग्लादेश में हिन्दुओं पर हमला बताया.

एक वेरिफ़ाइड ट्विटर हैंडल ‘बांग्लादेश हिंदू यूनिटी काउंसिल’ (@UnityCouncilBD) ने एक वीडियो ट्वीट करते हुए दावा किया गया कि ये वीडियो रंगपुर का है. वीडियो 1 लाख से ज़्यादा बार देखा गया.

इस ट्विटर हैंडल ने अपने बायो में बांग्लादेश हिंदू बौद्ध ईसाई एकता परिषद की वेबसाइट bhbcop.org को लिंक किया है.

वीडियो को लेखक आनंद रंगनाथन ने भी शेयर किया.

ऑप इंडिया ने @UnityCouncilBD के ट्वीट को लेकर एक आर्टिकल लिखा. इस भाजपा समर्थक प्रोपगेंडा वेबसाइट ने दावा करते हुए लिखा, “बीएचयूसी ने जो वीडियो फ़ुटेज शेयर किया है उसमें, ये देखा जा सकता है कि इस्लामवादी भीड़ ने एक मंदिर में आग लगा दी, जिसे फ़ायरमेन बुझाने की कोशिश कर रहे हैं. इस हमले में मंदिर परिसर के भीतर रखी मूर्तियां भी जल गईं.

फ़ैक्ट-चेक

इसी वीडियो को ‘सोशल त्रिपुरा नेटवर्क’ नामक एक फ़ेसबुक पेज ने शेयर किया था. वीडियो में नीचे बांग्ला में न्यूज़ हेडलाइन प्लेट पर लिखा है जिसका मतलब है कि ये घटना त्रिपुरा के करातीछारा में स्थित ‘मंगा चेरा बाज़ार’ या मारा चेरा बाज़ार में हुई थी.

সপ্তমীর রাতে ভয়াবহ অগ্নিকাণ্ডে পুড়ে ছাই মরাছড়া বাজারে দুর্গোমন্ডপসহ একাংশ দোকানপাট।।।।

সপ্তমীর রাতে ভয়াবহ অগ্নিকাণ্ডে পুড়ে ছাই মরাছড়া বাজারে দুর্গোমন্ডপসহ একাংশ দোকানপাট।।।।

Posted by Social Tripura Network on Wednesday, 13 October 2021

त्रिपुरा के स्थानीय न्यूज़ चैनल PB24 न्यूज़ ने इस घटना की रिपोर्ट की थी. चैनल के मुताबिक, घटना 13 अक्टूबर की है जब अष्टमी के दिन बाज़ार में सुबह साढ़े तीन बजे आग लग गयी थी. इस दुर्घटना में वो हिंदू देवी दुर्गा की मूर्ति वाला पंडाल और इलाके की कुछ दुकानें क्षतिग्रस्त हो गईं. चैनल ने बताया कि आग लगने के कारणों का अभी पता नहीं चल पाया था. कुछ स्थानीय लोगों को शक था कि आग मंडप से लगी थी और कुछ लोगों का मानना ​​था कि एक दुकान में शॉर्ट सर्किट की वजह से आग लगी.

বিধ্বংসী অগ্নিকাণ্ডে ভস্মীভূত পুজো মণ্ডপ সহ বাজারের দোকানপাট

বিধ্বংসী অগ্নিকাণ্ডে ভস্মীভূত পুজো মণ্ডপ সহ বাজারের দোকানপাট

#pb24 #tripuranews #tripura #agartalanews #breakingnews #headlines #topnews #topstories

Posted by PB24 News on Tuesday, 12 October 2021

गौरतलब है कि वायरल वीडियो और PB24 के वीडियो में मारा चेरा बाजार के दृश्य एक जैसे हैं. बिल्डिंग के खंभे, दुर्गा मूर्ति के पीछे की रेलिंग और मूर्ति की संरचना भी एक जैसी है.

This slideshow requires JavaScript.

असम स्थित मीडिया आउटलेट टाइम 8 ने बताया कि आग से 16 लाख रुपये के नुकसान का अनुमान था और पुलिस घटना की जांच कर रही है.

और पुलिस घटना की जांच कर रही है. जले हुए पंडाल की तस्वीर, वीडियो में दिख रहे पंडाल से बिल्कुल मेल खाती है.

बांग्लादेश स्थित फ़ैक्ट-चेकिंग आउटलेट Rumor Scanner ने भी उस दावे को खारिज़ करते हुए एक आर्टिकल लिखा, जिसमें वीडियो रंगपुर का बताया गया था.

BHBCOP ने ट्विटर हैंडल @UnityCouncilBD के अपने संगठन से जुड़े होने की बात से से इनकार किया

16 जुलाई, 2021 को बांग्लादेश हिंदू बौद्ध ईसाई एकता परिषद के फ़ेसबुक पेज ने पोस्ट किया कि ट्विटर हैंडल @UnityCouncilBD एक “फ़र्ज़ी अकाउंट” है. संगठन ने लिखा, “आगे ये ध्यान दिया जाना चाहिए कि हमने इस मामले में सरकार, BTRC से आधिकारिक तौर पर शिकायत की है. हम ये बताना चाहते हैं कि फ़ेसबुक, ईमेल और परिषदबार्ता को छोड़कर BHBCUC का कहीं दूसरा अकाउंट नहीं है.”

ऑल्ट न्यूज़ ने इस संगठन से इनके फ़ेसबुक पेज के जरिये संपर्क किया. हिंदू बौद्ध ईसाई एकता परिषद केंद्रीय समिति के वकील और आयोजन सचिव दीपंकर घोष ने भी बताया कि ट्विटर अकाउंट संगठन से नहीं जुड़ा है और संगठन का कोई ट्विटर हैंडल नहीं है.

पहले इस ट्विटर हैंडल का यूज़रनेम @HinduarmysUnity था.

ट्विटर पर @HinduarmysUnity सर्च करने पर रिज़ल्ट में @UnityCouncilB अकाउंट ही दिखता है.

हहमने ट्विटर को ईमेल करके पूछा है कि आखिर अकाउंट को कैसे वेरिफ़ाई कर दिया गया. जब ट्विटर की ओर से जवाब आएगा है तो इस आर्टिकल को अपडेट किया जाएगा. हालांकि, इस अकाउंट को अब डीएक्टिवेट कर दिया गया है.

हालांकि, बांग्लादेश में अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय पर हमले की खबरें भयानक हैं, लेकिन @UnityCouncilBD ने जो वीडियो शेयर किया, वो वीडियो त्रिपुरा का है. हिंदू बौद्ध ईसाई एकता परिषद ने इस ट्विटर अकाउंट का उनके संघठन से जुड़े होने पर साफ़ तौर पर इनकार किया जिससे ये ट्विटर हैंडल भी जांच के दायरे में आ गया है. गौरतलब है, कि इंडिया टुडे मलयालम ने @UnityCouncilBD के ट्वीट के आधार पर एक आर्टिकल पब्लिश किया था और आज तक बांग्ला ने इस वीडियो को त्रिपुरा का बताते हुए फैक्ट-चेक किया था.


BJP सदस्यों ने प्रियंका गांधी और कांग्रेस पर तुष्टीकरण का आरोप लगते हुए अधूरा वीडियो शेयर किया, देखिये

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged: