‘आतंकवादियों के लिए बिरयानी’ : कांग्रेस को निशाना बनाने के लिए योगी आदित्यनाथ का गलत दावा

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राजस्थान की एक हालिया चुनाव रैली में 26/11 के मुंबई आतंकी हमले के दोषी आतंकवादी पर बहुत नरम होने के लिए कांग्रेस के नेतृत्व वाली तत्कालीन यूपीए सरकार का मजाक उड़ाया था। मकराना में एक चुनावी रैली में आदित्यनाथ ने कहा, “कांग्रेस हमेशा विभाजन की है। बंटवारे की राजनीति की है और इस बंटवारे और विभाजन का ही दुष्परिणाम है कि इस देश के अंदर आतंकवाद सर चढ़कर बोलना था। आज आप देख रहे होंगे कि जिस आतंकवादियों को कांग्रेस बिरयानी खिलाती थी, आज हम उन्हें गोली खिला रहे हैं”

रिपब्लिक टीवी, टाइम्स नाउ, इंडिया टुडे, स्वराज्य, एनडीटीवी, द फाइनेंशियल एक्सप्रेस और एएनआई समेत कई मीडिया संगठनों ने योगी आदित्यनाथ के बयान की रिपोर्ट दी है।

झूठा दावा

मार्च 2015 में, लोक अभियोजक उज्ज्वल निकम, जिन्होंने 26/11 के मुंबई आतंकी हमले के मामले में राज्य की तरफ से तर्क दिया था, उन्होंने खुलासा किया था कि कसाब के पक्ष में बनाई गई भावनात्मक लहर का सामना करने के लिए अजमल कसाब को जेल में बिरयानी खिलाने की कहानी उन्होंने गढ़ी थी। मीडिया से बात करते हुए निकम ने कहा था, “न तो कसाब ने बिरयानी मांगी और न ही सरकार द्वारा यह पेश की गई। इस मामले की सुनवाई के दौरान कसाब के पक्ष में आकार ले रहे भावनात्मक माहौल को तोड़ने के लिए मैंने इसे गढ़ा।”

एक रिपोर्ट के मुताबिक, निकम ने पहले कहा था, “रक्षा बंधन पर, उसने अपने वकील से पूछताछ की थी कि क्या कोई लड़की उसकी कलाई पर राखी बांधने आएगी, जबकि एक और मौके पर उसे जेल में मटन बिरयानी दिए जाने के लिए उसने नखरे दिखलाए थे।”

यह ध्यान देने योग्य है कि टाइम्स नाउ, इंडिया टुडे, एनडीटीवी और स्वराज ने सार्वजनिक अभियोजक के स्पष्टीकरण बयान का अपनी समाचार-रिपोटों में उल्लेख किया है।

2015 में लोक अभियोजक के स्पष्टीकरण की खबरें होने के बावजूद, तीन साल बाद, वही झूठा दावा योगी आदित्यनाथ ने राजनीतिक प्रचार के लिए उपयोग किया है।

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend