प्रधानमंत्री मोदी ने की सांप्रदायिक और महिला विरोधी कार्टून बनाने वाले की प्रशंसा

“बहुत ही बढ़िया भाव प्रदर्शन क्षितिज, धन्यवाद। आप बेहद प्रतिभाशाली कलाकार हैं।” 6 मई, 2018 को प्रधानमंत्री मोदी ने यह ट्वीट किया। इस ट्वीट में प्रधानमंत्री मोदी एक कार्टूनिस्ट क्षितिज बाजपेई का शुक्रिया कर रहे थे जो नियमित रूप से अपने ट्विटर टाइमलाइन पर अपना काम पोस्ट करते रहते हैं। 5 मई को मंगलुरु में प्रधानमंत्री मोदी की रैली हुई थी, उसी रैली का एक स्केच बनाने के बाद प्रधानमंत्री ने बाजपेई के कलात्मक कौशल की तारीफ की।

क्षितिज बाजपेई के ट्वीटर पर ज्यादा फॉलोअर्स नहीं हैं, और उन्होंने अपनी प्रोफ़ाइल पर खुद के बारे में कोई जानकारी भी नहीं दी है। हालांकि उनका ट्विटर टाइमलाइन उनके कार्टून ट्वीट्स से भरा-पड़ा है। इन कार्टून्स को देखने से इनकी सोच की झलक दिखती है, जिसपर प्रधानमंत्री मोदी के ट्वीट के बाद ध्यान गया। ये कार्टून्स महिलाओं और मुसलमानों के प्रति पूर्वाग्रह और नफरत से भरी प्रवृत्ति दर्शाती है। ये बेहद आपत्तिजनक और अश्लील तस्वीरें हैं। ये खासकर राजनितिक नेताओं को और विशेष रूप से विपक्षी दलों के नेताओं को आपत्तिजनक और घृणास्पद तरीके से चित्रित करते हैं। इस कलाकार के बनाए गए कुछ कार्टूनों को हम देखते हैं और इनके विचार को समझने की कोशिश करते हैं।

महिला विरोधी

कठुआ, जम्मू-कश्मीर में 8 साल की बच्ची से हुए बलात्कार और हत्या के बाद बॉलीवुड में क्रोध देखने को मिला था। जिन अभिनेत्रियों ने इस घटना के लिए क्रोध दिखाया था उनको इस कलाकार ने वेश्याओं के रूप में संदर्भित किया। इन्होंने कार्टून के साथ हैशटैग #BollywoodProstitute और #BollywoodSlut ट्वीट किया। एक अन्य कार्टून में, उन्होंने विशेष रूप से अभिनेत्री स्वरा भास्कर, सोनम कपूर, करीना कपूर खान, हुमा कुरेशी और रिचा चड्डा को निशाना बनाया है।

इस कार्टून्स में महिला विरोधी भावना साफ़ दिखाई देती है। नीचे दिए गए कार्टून में उत्तर प्रदेश राज्य को किस तरह चित्रित किया गया है, इस पर एक नज़र डालें।

बाजपेई के काम में बलात्कार और यौन उत्पीड़न एक प्रमुख विषय है।

सांप्रदायिक

कई कार्टून स्पष्ट रूप से सांप्रदायिक हैं, जिसमें कई अल्पसंख्यक समुदाय पर मजाक उड़ाते हुए खराब रूढ़िवादी सोच का परिचय देते हैं।

नीचे कार्टून में, लम्बी दाढ़ी और टोपी पहने हुए व्यक्ति को दीवार पर पेशाब करते हुए दिखाया गया है, जिसपर ‘स्वच्छ भारत अभियान’ लिखा है।

यहाँ तक कि आगरा का प्रतिष्ठित ताजमहल भी नहीं बचा है। नीचे इस कार्टून में गुप्तांगों को मीनार दिखाया गया है और मुगलों को अय्याश कहा गया है।

कई कार्टून्स हैं, जिनमें से अधिकांश विपक्षी दलों के राजनीतिक नेताओं को ध्यान में रखकर बनाया गया है। ये कार्टून्स भी आपत्तिजनक और अश्लील हैं। केजरीवाल इनके पसंदीदा व्यक्ति हैं, हालांकि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को भी एक कार्टून में निशाना बनाया गया है।

हालांकि यह अजीब लगता है लेकिन इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि क्षितिज बाजपेई के इस तरह के काम के बावजूद प्रधानमंत्री मोदी इनकी प्रशंसा करते हैं। ऑल्ट न्यूज ने पहले एक विस्तृत रिपोर्ट प्रकाशित की थी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ट्विटर पर कैसे सीरियल अफवाहबाजों, महिलाओं को गन्दी गलियां देने वालों और दंगा भड़काने वालों को ट्विटर पर फॉलो करते हैं। कार्टून राजनीतिक टिप्पणी का एक अभिन्न और आंतरिक हिस्सा रहा है, कलाकार कार्टून द्वारा अपने कौशल से व्यंग और जानकारी के साथ एक मजबूत संदेश लोगों तक पहुंचाते हैं लेकिन इस लेख में प्रस्तुत व्यंग-चित्र, कुछ सामाजिक वर्गों के प्रति रुढ़िवादी सोच दर्शाते है और इस तरह समाज में असहिष्णुता और संदेह पैदा करते हैं।

ऑल्ट न्यूज़ के अंग्रेजी में लेख आने के बाद कार्टूनिस्ट ने अपने कई कार्टून वाले ट्वीट डिलीट कर दिए हैं।

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of