नहीं, शिवराज सिंह चौहान के दो अलग हाथों में प्लास्टर नहीं लगा था, भ्रामक तस्वीरें शेयर

भाजपा विधायक शिवराज सिंह चौहान की दो तस्वीरों का सेट सोशल मीडिया में वायरल है। दावा किया गया है कि मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम के सुबह किसी और हाथ में और शाम को किसी और हाथ में प्लास्टर था। इन तस्वीरों को साझा करने के लिए इस्तेमाल किया गया कैप्शन है- “ऐसा चमत्कार, सुबह इस हाथ में प्लास्टर, शाम को दूसरे हाथ में प्लास्टर। भगवान शिवराज सिंह चौहान जी के दोनों हाथ जल्द ठीक करे।” फेसबुक पेज ‘प्रियंका गांधी – फ्यूचर ऑफ इंडिया’ से किए गए इस पोस्ट को 13,000 शेयर मिले।

ये तस्वीरें ट्विटर पर भी शेयर की गई हैं। एक यूज़र, Pappu Singh INC ने पोस्ट करते हुए लिखा है –  “भाजपा नेताओं को किसी फिल्म जगत में काम करना चाहिए। ऐसा चमत्कार, सुबह इस हाथ में प्लास्टर, शाम को दूसरे हाथ में प्लास्टर । भगवान शिवराज सिंह चौहान जी के दोनों हाथ जल्द ठीक करे.”

ऑल इंडिया प्रोफेशनल कांग्रेस (AIPC) दक्षिण मुंबई कांग्रेस की सदस्य रिया ने इन तस्वीरों को कोट-ट्वीट किया।

फेसबुक और ट्विटर दोनों पर कई उपयोगकर्ताओं ने इस पोस्ट को प्रसारित किया है।

शिवराज सिंह चौहान के किस हाथ में प्लास्टर था?

शिवराज सिंह चौहान के ट्विटर अकाउंट से गांधी जयंती के दौरान एक वीडियो अपलोड किया गया था। ऑल्ट न्यूज़ ने वीडियो का एक स्क्रीनशॉट लिया। पाठकों को समझने में आसानी के लिए कि कौन सा हाथ में चोट लगी है, इस स्क्रीनशॉट में चौहान की पीठ कैमरे के सामने है। जैसा कि स्पष्ट है, यह दाहिनी बांह है जिस पर प्लास्टर चढ़ा है।

चौहान के कार्यालय द्वारा अपलोड की गई अन्य तस्वीरों में भी यह दिखता है।

इसके अलावा, चौहान के बंडी (जैकेट) वाली जेब, जो हमेशा बाईं ओर होती है, उससे भी यह साबित होता है कि उनका दाहिना हाथ घायल हुआ था।

मिरर (प्रतिबिम्ब) तस्वीर

यदि कोई ध्यान से देखे तो वायरल तस्वीरों में से एक सेल्फी है। अक्सर ही, मोबाइल फोन के फ्रंट कैमरे दर्पण के रूप में कार्य करते हैं। इसका मतलब है कि फ्रंट कैमरे का उपयोग करके शूट की गई तस्वीरें उल्टी (प्रतिबिम्बित) दिखाई देती हैं। उदाहरण के लिए, जब आप दर्पण के सामने अपना “दाहिना” हाथ उठाते हैं, तो प्रतिबिंब में भी वही (उसी तरफ का) हाथ उठा हुआ दिखता है, जो प्रतिबिंब में दिख रहे आपके चेहरे के हिसाब से “बायां” लगता है। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि आप और दर्पण में आपका प्रतिबिम्ब, दोनों एक ही दिशा में नहीं होते। दर्पण में आपके आगे और पीछे का उलटा होता है इसलिए अनिवार्य रूप से, आपके दाएं का बाएं और बाएं का दाएं हो जाता है।

कुछ फोन में, फ्रंट कैमरे से ली गई तस्वीरें डिफ़ॉल्ट रूप से उल्टी (फ़्लिप) सेट रहती हैं, जबकि कई दूसरे फोन में, कैमरा सेटिंग्स में ‘मिरर इमेज’ को ऑफ (बंद) किया जा सकता है।

चौहान के साथ सेल्फी लेने वाले व्यक्ति के कैमरा सेटिंग में ‘मिरर इमेज’ ऑन रहा होगा, यही वजह है कि चौहान का बायां हाथ चोटिल लगता है।हालांकि, यदि आप तस्वीर को फ्लिप (उल्टा) करते हैं, तो स्पष्ट हो जाता है कि बाएं नहीं, बल्कि दाएं बांह पर प्लास्टर चढ़ा है।

नीचे दिए गए तस्वीरों से यह भी स्पष्ट होता है कि दाहिने हाथ पर प्लास्टर चढ़ा है।

निष्कर्षतः, मोबाइल के रीयर कैमरे और फ्रंट कैमरे से ली गई दो तस्वीरों को इस दावे से साझा किया गया कि दिन के अलग-अलग समय में भाजपा विधायक शिवराज सिंह चौहान के अलग-अलग हाथों पर प्लास्टर चढ़ा था। इनमें से सेल्फी वाली तस्वीर मिरर (प्रतिबिम्ब) रूप में है और वास्तव में उनकी दाहिनी बांह चोटिल थी।

 

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend