सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया जा रहा है. 8 मिनट के इस वीडियो में एक महिला बच्चे को लेकर ऑटो रिक्शा से उतरती है. और ऑटो वाले के साथ बातचीत करने लगती है. उतनी देर में ऑटो के पास खड़ी एक महिला बच्चा उठाकर निकल जाती है. ये वीडियो रिकार्ड कर रहे लोग बच्चे की मां को बताते हैं और फिर ये सब सड़क की दूसरी और मौजूद पार्क में जाते हैं. वहां दूसरी महिला जिसने लाल और काले रंग का धारीदार टीशर्ट पहना है, बच्चा लेकर जा रही होती है. वीडियो रिकार्ड करने वाले लोग और बच्चे की मां, उस महिला को मार-पीट कर बच्चा वापस ले लेते हैं. इस दौरान एक व्यक्ति कथित रूप से बच्चा चोरी कर रही महिला को कई बार थप्पड़ मारता है. आखिर में ये महिला बच्चा चोरी करने का गुनाह कुबूल करती है और माफ़ी मांगती है.

ये वीडियो शेयर करते हुए कहा जा रहा है कि बच्चे की मां गूंगी और बहरी थी जिस वजह से उसे चोरी का अंदाज़ा नहीं हुआ. एक फ़ेसबुक यूज़र ने ये वीडियो इसी दावे के साथ पोस्ट किया. (पोस्ट का आर्काइव लिंक)

 

गूँगी माँ का उठाया बच्चा हुआ ये सब 😭 deaf 🧏😢

Posted by Aditya Mishra on Saturday, 4 June 2022

एक और फ़ेसबुक यूज़र ने भी ये वीडियो पोस्ट किया है.

फ़ैक्ट-चेक

वीडियो में 16 सेकंड पर एक डिसक्लेमर दिखता है. इसमें बताया गया है कि ये वीडियो मनोरंजन के मकसद से बनाया गया है.

वायरल पोस्ट देखते हुए हमें फ़ेसबुक पेज ‘अंकुर जसकरण’ द्वारा 7 जून को पोस्ट किया गया ये वीडियो मिला. अंकुर जसकरण, एक वीडियो क्रिएटर है. प्रोफ़ाइल के मुताबिक, वो अक्सर प्रेंक वीडियो बनाता है और यूट्यूब चैनल और फ़ेसबुक पेज पर पोस्ट करता है.

गूँगी माँ का उठाया बच्चा

गूँगी माँ का उठाया बच्चा

Posted by Ankur Jatuskaran on Saturday, 4 June 2022

ये फ़ेसबुक पेज खंगालने पर ऑल्ट न्यूज़ को मालूम हुआ कि इसपर ऐसे कई स्क्रिप्टेड वीडियोज़ पोस्ट किये गए हैं. (लिंक 1, लिंक 2, लिंक 3). इसके अलावा, हमने नोटिस किया कि वायरल वीडियो में जो लकड़ा दिख रहा है वो अंकुर ही है और इसने ज़्यादातर वीडियो में एक्टिंग की है.

यानी, बच्चा चोरी का बताकर शेयर किया जा रहा है ये वीडियो असल में स्क्रिप्टेड है. ऑल्ट न्यूज़ पहले भी ऐसे कई वीडियोज़ की जांच कर चुका है जो हकीकत में नाटकीय या जागरूकता के मकसद से बनाए जाते हैं. लेकिन वीडियो में लगाकर डिस्कलेमर ठीक से न चलने के कारण इसे सच्ची घटना बताकर शेयर किया जाता है.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.