असंबंधित वीडियो पुलिस द्वारा हैदराबाद बलात्कार आरोपी को प्रताड़ित करने के दावे से शेयर

এই সেই মানুষের রূপে জানোয়ার #পাশা চারজনের একজন হায়দ্রাবাদ পুলিশের হাতে জনগণ ক্ষোভে ফুঁসছে,, আইন সংশোধন না হলে ফল অনেকটাই খারাপ হবে।। (यह उन चारों जानवरो में से एक है जो आदमी की शक्ल में मौजूद है, यह हैदराबाद पुलिस के हाथो में है, यदि कानून में संसोधन नहीं किया जाता तो ना जाने की इसका अंजाम क्या होता।

बंगाली में साझा किये गए उपरोक्त संदेश को फेसबुक पर पुलिस द्वारा एक व्यक्ति को पीटने के वीडियो के साथ शेयर किया गया है, जिसमें उस आदमी को ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाते हुए देखा जा सकता है।

#PriyankaReddy
এই সেই মানুষের রূপে জানোয়ার #পাশা চারজনের একজন😡😡😡🤬🤬 হায়দ্রাবাদ পুলিশের হাতে
জনগণ ক্ষোভে ফুঁসছে,, আইন সংশোধন না হলে ফল অনেকটাই খারাপ হবে।।

Posted by Shuvam Bose on Saturday, 30 November 2019

उपरोक्त पोस्ट 1 दिसंबर को पोस्ट किये जाने के बाद करीब 7000 से ज़्यादा बार शेयर किया जा चूका है। 1:27 मिनट के इस वीडियो को हैदराबाद में एक पशुचिकित्सक के साथ हुए निर्मम बलात्कार और हत्या की घटना के बाद साझा किया जा रहा है, जिसमें चार आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। इसके साथ दावा किया गया है कि पुलिस जिस व्यक्ति को मार रही है वह एक आरोपी है।

ट्विटर पर इस वीडियो को हिंदी संदेश के साथ ट्वीट किया गया है, जिसमें दावा किया गया है कि मारे जाने वाले व्यक्ति का नाम मोह्हद पाशा है –“लिजीए सुनिए डाक्टर प्रियंका रेड्डी के रेपिस्ट और खूनी मादरज़ात मुहम्मद पाशा की चीखें, . मन तो नही मानेगा लेकिन थोड़ा सुकून जरूर मिल जाएगा !!”

इस समान संदेश को वीडियो के साथ फेसबुक पर कुछ उपयोगकर्ताओं ने शेयर किया है।

तथ्य जांच: हैदराबाद की घटना से सम्बंधित नहीं

ऑल्ट न्यूज़ ने पाया कि वीडियो में दिख रहा व्यक्ति हैदराबाद बलात्कार और हत्या की घटना का आरोपी नहीं है। इनविड की मदद से हमने वीडियो को कई की-फ्रेम्स में तोड़ा और उसे रिवर्स सर्च किया। परिणामस्वरुप हमें द हिन्दू का 27 नवंबर, 2019 को प्रकाशित किया गया लेख मिला।

यह वीडियो आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले का है। रिपोर्ट में बताया गया है कि, “बलात्कार के आरोपी को स्थानीय लोगों ने पुलिस के हवाले करने से पहले बेरहमी से पीटा था। जब आरोपी ने भागने की कोशिश की, तो पुलिस ने भी उसकी पिटाई की और इसी का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल है। 24 नवंबर को, एक 25 वर्षीय युवक ने कथित तौर पर 10 वर्षीय बच्ची के साथ बलात्कार किया और गला दबाकर उसकी हत्या करने की कोशिश की थी। मंगलवार को इस घटना के सामने आने के बाद, चित्तूर गांव में कोहराम मच गया  था।” (अनुवाद)

इस प्रकार, वायरल हो रहा वीडियो हाल ही का है मगर यह हैदराबाद की घटना से सम्बंधित नहीं है। सोशल मीडिया का दावा गलत है।

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend