सोशल मीडिया यूज़र्स एक चेक की तस्वीर शेयर कर रहे हैं और दावा कर रहे हैं कि नीरव मोदी ने कांग्रेस को 98 करोड़ रुपये दिए थे. कई लोगों ने एक पोस्ट का स्क्रीनशॉट शेयर किया है जिसमें तस्वीर के साथ अंग्रेज़ी लिखा है, “2011 में नीरव मोदी ने कांग्रेस को 98 करोड़ रुपये दिए थे. आप खुद समझ जाइये किसके अकाउंट में.” इसके ऊपर हिंदी में लिखा है, “मैंने अकेले नहीं खाया, सबको हिस्सा दिया है सब मिलकर चुकाएं: नीरव मोदी. धड़कन बढ़ गयी है चौकीदार को चोर बोलने वालों की.”

यूज़र ब्रिजेश जैन ने लिखा, “98 करोड़ रूपया कांग्रेस को दान दिया गया अथवा रिश्वत नीरव मोदी द्वारा.” लोगों ने अलग-अलग कैप्शन के साथ इस चेक की तस्वीरें शेयर की.

तस्वीर के नीचे भी टेक्स्ट में कहा जा रहा है, “लन्दन में गिरफ्तारी के बाद नीरव मोदी ने किया स्वीकार- राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा ने अपना पोल खुलने के डर से विदेश भगा दिया था. ब्रेकिंग: कांग्रेसियों ने 456 करोड़ रुपये कमीशन खा कर मुझे भगाया- बयान नीरव मोदी…”

बता दें कि हीरा व्यापारी नीरव मोदी पर पंजाब नेशनल बैंक के 14 हज़ार करोड़ रुपयों का घोटाला करने का आरोप है और उसे भगोड़ा घोषित किया जा चुका है. फ़रवरी 2019 तक उसे ब्रिटेन के दूतावास में शरण मिली हुई थी लेकिन मार्च 2019 में उसे गिरफ़्तार कर लंदन की जेल में रखा गया है. भारत उसके प्रत्यर्पण की तैयारी कर चुका है. यूके के न्यायलय ने 25 फ़रवरी को भारतीय प्रत्यर्पण निदेशालय के पक्ष में फ़ैसला दिया था.

कई अन्य फेसबुक यूज़र्स ने भी चेक की ये तस्वीर शेयर की.

कुछ ट्विटर यूज़र्स ने भी यही दावा शेयर किया हुआ है.

फ़ैक्ट-चेक

ऑल्ट न्यूज़ ने जनवरी 2021 में भी ऐसे ही एक दावे का फ़ैक्ट-चेक किया था जब एक्सिस बैंक का ही फ़र्ज़ी चेक शेयर करते हुए दावा किया गया था कि विजय माल्या ने भाजपा को पैसे दिए थे. हमने उस रिपोर्ट में बताया था कि पहले भी इस फ़र्ज़ी चेक का इस्तेमाल बागी AAP नेता कपिल मिश्रा ने आम आदमी पार्टी पर निशाना साधने के लिए किया था.

फ़ेसबुक पर ढूंढने पर शेयर की जा रही चेक की और भी तस्वीरें मिलीं जिन्हें 2018 और उसके बाद भी शेयर किया गया है. इन तस्वीरों में चेक का अकाउंट नंबर और बाकी जानकारी भी दिख रही है.

हम नीचे वो सभी हिंट्स लिख रहे हैं जिनके आधार पर कहा जा सकता है कि ये चेक भी फ़र्ज़ी है:

1. इस चेक में ‘Ninety’ की स्पेलिंग ग़लत है और ‘Ninenty’ लिखा है.

2. हस्ताक्षर के नीचे नाम खुरच कर मिटा दिया गया है जो इसके फ़र्ज़ी होने का सबसे बड़ा हिंट है.

3. इसके बायीं ओर सबसे उपर दो लाइन के बीच में ‘Account Payee’ नहीं लिखा है जिसका मतलब है ये 98 करोड़ कैश निकाले जाएंगे. 98 करोड़ कैश में निकालना कोई छोटी बात नहीं है. एक्सिस बैंक के फ़ेसबुक पेज पर इसके बारे में बताया गया है.

4. इस चेक पर तारीख है 25-09-2011 और अकाउंट नंबर है- 914010006904607. हमने अकाउंट खुलने के समय के बारे में जानकारी जुटाने की कोशिश की. पैसा बाज़ार ने बताया है कि नए अकाउंट्स में पहला डिजिट 9 होता है उसके बाद के दो अंक खाता खोले जाने वाले साल के बारे में बताते हैं. यानी, 14 का मतलब है कि ये अकाउंट 2014 में खोला गया था. कोरा पर एक्सिस बैंक के पूर्व मैनेजर विनय नायर ने भी बताया है कि 2010 के बाद खोले गए खातों की खाता संख्या की शुरुआत 9 से होती है. इससे पता चलता है कि जब अकाउंट 2014 में खुला है तो 2011 में ये चेक जारी नहीं किया जा सकता है.

5. तस्वीर ज़ूम करने पर ब्रांच का नाम भी दिखाई देता है- “NORTH LAKHIMPUR”. नॉर्थ लखीमपुर असम में है और नीरव मोदी मुंबई में रहता था.

ये चेक और इसके साथ जुड़ा दावा, कई सालों से वायरल है. 2018 में smhoaxslayer और 2019 में फ़ैक्ट क्रेशेंडो ने इसका फ़ैक्ट-चेक किया था.

सोशल मीडिया पर समय-समय पर फ़र्ज़ी चेक शेयर किये जाते रहे हैं. कभी दावा किया जाता है विजय माल्या ने भाजपा को पैसे दिए तो कभी दावा किया जाता है कि नीरव मोदी ने कांग्रेस को पैसे दिए.


पकिस्तान में शख्स ने अपने परिवार का क़त्ल कर की ख़ुदकुशी, भारतीय मीडिया ने बताया हिन्दू परिवार पर हमला

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
About the Author

A journalist and a dilettante person who always strives to learn new skills and meeting new people. Either sketching or working.