सोशल मीडिया पर नारेबाज़ी कर रहे लोगों का एक वीडियो काफ़ी शेयर किया जा रहा है. ये वीडियो गुजरात के कच्छ का है. दावा किया जा रहा है कि कच्छ के दुधई गांव में चुनाव परिणाम जारी होने के बाद लोगों ने कथित रूप से ‘पाकिस्तान ज़िंदाबाद’ के नारे लगाए.

न्यूज़ 24 ने ये वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा कि गुजरात के कच्छ के दुधई गांव में ग्राम पंचायत चुनाव परिणाम के बाद ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगाए गये. (ट्वीट का आर्काइव लिंक)

कई स्थानीय मीडिया संगठनों ने भी ये दावा चलाया. गुजराती न्यूज़ चैनल VTV गुजराती ने भी ये दावा आर्टिकल में शेयर किया (आर्काइव लिंक). वेबसाइट वाइब्ज़ ऑफ़ इंडिया ने भी ये दावा किया है.

This slideshow requires JavaScript.

ट्विटर और फ़ेसबुक पर ये वीडियो भारत विरोधी नारे लगाये जाने के दावे के साथ वायरल है.

सच्चाई

वायरल वीडियो को गौर से सुनने पर ऑल्ट न्यूज़ ने पाया कि इसमें ‘पाकिस्तान ज़िंदाबाद’ के नारे नहीं लगाए गये हैं. ये वीडियो ग्राम पंचायत चुनाव परिणाम के बाद का है. और इस चुनाव में रीनाबेन कोठीवाड की जीत हुई थी. लेकिन वीडियो में उनका नाम भी नहीं सुनाई दे रहा है. वीडियो की असलियत का पता लगाने के लिए ऑल्ट न्यूज़ ने अपनी छानबीन जारी रखी.

की-वर्ड्स सर्च करते हुए हमें गुजराती मीडिया संगठन दैनिक भास्कर की रिपोर्ट मिली. रिपोर्ट में बताया गया है कि कच्छ के अंज़ार ज़िले के दुधई गांव में ग्राम पंचायत चुनाव के नतीजे जारी होने के बाद नारेबाज़ी हुई थी. इसका वीडियो शेयर करते हुए झूठा दावा चलाया गया कि वहां कथित रूप से ‘पाकिस्तान ज़िंदाबाद’ के नारे लगाए गये. लेकिन पुलिस ने जांच करते हुए इस दावे को ग़लत बताया. आर्टिकल में पूर्व कच्छ के एसपी मयूर पटेल के हवाले से बताया गया है कि वीडियो में ‘राधुभाई ज़िंदाबाद’ के नारे लगाए गये थे.

पूर्व कच्छ के एसपी ने ट्वीट करते हुए भी इस दावे को खारिज किया. उन्होंने बताया कि वीडियो में ‘पाकिस्तान ज़िंदाबाद’ नहीं बल्कि ‘राधुभाई ज़िंदाबाद’ के नारे लगाए गये थे. राधु भाई, सरपंच पद पर जीतने वाली महिला रीना बेन के पति है.

इसके अलावा, ऑल्ट न्यूज़ ने एसपी मयूर पटेल से संपर्क करने की कोशिश की. उनके ऑफ़िस में मौजूद अधिकारी ने बताया कि दुधई में देश विरोधी नारे नहीं लगाए गये थे. उन्होंने एसपी मयूर का एक वीडियो भी भेजा.

वीडियो में एसपी मयूर पटेल गुजराती में बात कर रहे हैं जिसका हिन्दी अनुवाद इस प्रकार है – “कल चुनाव परिणाम के बाद जो रिज़ल्ट आया उसमें दुधई गांव में महिला सदस्य रीनाबेन राधुभाई कोठीवाड सरपंच पद पर चुनी गई. उसके बाद एक रैली निकाली गई जिसमें 2 बार ‘राधुभाई ज़िंदाबाद’ के नारे लगे. इसका वीडियो झूठे तौर पर चलाया गया कि वहां ‘पाकिस्तान ज़िंदाबाद’ के नारे लगे. लेकिन वायरल वीडियो को 8 सेकंड के बाद शांति से सुनने का प्रयास करेंगे तो उसमें 2 बार ‘राधुभाई ज़िंदाबाद’ के नारे सुनाई देंगे. जिन लोगों ने वीडियो झूठे दावे के साथ शेयर किया है उनपर कार्रवाई की जाएगी.”

कुल मिलाकर, कच्छ के दुधई में चुनाव परिणाम के बाद सरपंच रीनाबेन के पति ‘राधुभाई ज़िंदाबाद’ के नारे लगाए गये थे. इसका वीडियो शेयर करते हुए झूठा दावा चलाया गया कि वहां लोगों ने ‘पाकिस्तान ज़िंदाबाद’ के नारे लगाए. पहले भी ऑल्ट न्यूज़ ऐसे रैली या सार्वजनिक नारेबाज़ी के वीडियोज़ की जांच कर चुका है जिसे पाकिस्तान के समर्थन में नारे लगाए जाने के ग़लत दावे से शेयर किया गया था.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.

Tagged: