पाकिस्तान में एक हिन्दू परिवार के पांच सदस्यों की मौत के बाद भारतीय मीडिया में घटना को लेकर सुर्खियां बनी हुई हैं. टाइम्स नाउ ने दावा किया कि ये घटना पाकिस्तान में हिन्दू समुदाय पर अत्याचारों का एक और उदाहरण है.

टाइम्स नाउ रिपोर्टर प्रदीप दत्ता ने कहा, “पाकिस्तान में हिन्दुओं के खिलाफ़ अपराध जारी है… ये पाकिस्तानी पंजाब में एक हिन्दू परिवार की बर्बरता से हत्या का उदाहरण है. अभी तक किसी की गिरफ़्तारी नहीं की गयी है… सबसे ज़्यादा दुर्भाग्यपूर्ण है कि ऐसे मामले की जांच नहीं की जाती और मामला दबाया जाता है… हम देखते आ रहे हैं कि इमरान खान भारत में मानवाधिकारों के उल्लंघन पर ज्ञान देते रहते हैं लेकिन उनके अपने घर में क्या हो रहा है इसके बारे में वो शायद ही कभी कुछ बोलते हैं.”

इसके बाद चैनल ने रिपोर्ट किया कि भाजपा ने संयुक्त राष्ट्र मानव अधिकार आयोग को (UNHRC) पाकिस्तान में हिन्दुओं पर हो रहे अत्याचार का संज्ञान लेने कहा है.

ANI ने अपनी रिपोर्ट में पाकिस्तान के आउटलेट द न्यूज़ इंटरनेशनल को क्रेडिट दिया है. इस रिपोर्ट में लिखा है, “रहीम यार खान शहर के बीरबल दास ने द न्यूज़ इंटरनेशनल को बताया कि राम चंद एक मेघवाल हिन्दू थे औए उनकी उम्र 35-36 वर्ष थी. वो लम्बे समय से टेलर की दुकान चलाते थे. वो शांत स्वाभाव व्यक्ति थे. ये घटना सबके लिए चौंकाने वाली थी.” ANI की स्टोरी हिंदुस्तान टाइम्स, इंडिया टुडे, याहू न्यूज़, India.com, ज़ी5 और हिंदी न्यूज़ आउटलेट हिंदुस्तान ने रीपब्लिश की. WION और ज़ी न्यूज़ इंग्लिश ने भी ANI इनपुट्स के आधार पर कुछ ऐसी ही रिपोर्ट पब्लिश की. India.com की रिपोर्ट भाजपा सदस्य सुरेन्द्र पुनिया ने शेयर करते हुए लिखा, “इसलिए CAA की ज़रूरत है.”

ये घटना वन इंडिया और न्यूज़ ट्रैक ने भी रिपोर्ट की.

ये घटना रिपोर्ट करने वाले हिंदी आउटलेट्स में ABP न्यूज़ भी शामिल है. चैनल ने कहा कि परिवार के पांच सदस्यों की हत्या के बाद पाकिस्तान में हिन्दू समुदाय के लोगों के बीच डर का माहौल है.

अमर उजाला ने लिखा, “पाकिस्तानी अखबार द न्यूज इंटरनेशनल के अनुसार मेघवाल परिवार के सभी लोगों का गला रेता गया. पुलिस ने घर से चाकू और कुल्हाड़ी बरामद की है. माना जा रहा है कि हमलावरों ने वारदात में इन्हीं का इस्तेमाल किया. रामचंद मेघवाल की उम्र 35-36 साल की बताई गई है। वह अपने परिवार के साथ शांतिपूर्वक जिंदगी बीता रहे थे, लेकिन आतंकियों को यह रास नहीं आया. हमलावर कौन थे और हत्या की वारदात क्यों की गई? यह अभी पता नहीं चला है.” कुछ यही नवभारत टाइम्स ने भी रिपोर्ट किया.

प्रो-भाजपा प्रोपगेंडा वेबसाइट ऑप-इंडिया ने भी कम्युनल ऐंगल के साथ ही इसे रिपोर्ट किया.

फ़ैक्ट-चेक

अधिकतर रिपोर्ट्स पाकिस्तान के द न्यूज़ इंटरनेशनल की स्टोरी के आधार पर लिखी गयी हैं. लेकिन ANI और कुछ अन्य आउटलेट्स ने द न्यूज़ इंटरनेशनल की पूरी बात लिखने के बजाय अपनी सुविधानुसार बातें उठायी हैं और अधूरी तस्वीर पेश की है.

द न्यूज़ इंटरनेशनल ने सिर्फ़ ये नहीं बताया था कि राम चंद मेघवाल और उसका परिवार मृत पाया गया. आउटलेट ने ये भी लिखा है कि “पुलिस के मुताबिक परिवार का मुखिया, राम चंद ही अपने परिवार का हत्यारा था. उसने अपनी पत्नी लक्ष्मी माई और तीन बच्चों का इसलिए क़त्ल कर दिया क्योंकि उसे अपनी पत्नी पर अवैध सम्बन्ध रखने का शक था.” रिपोर्ट में आगे बताया गया है, “इस घटना की शिकायत लक्ष्मी माई के भाई तीरथ राम ने दर्ज कराई थी. उसने कहा था कि राम चंद को शक था इसलिए उसने अपने परिवार की गला रेत कर हत्या कर दी.”

द डॉन ने रिपोर्ट किया कि राम चंद ने बेरोज़गारी के कारण अपने परिवार की हत्या की, और फिर ख़ुदकुशी कर ली.

द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट में कहा गया है, “रिपोर्ट्स के मुताबिक एक शख्स ने गरीबी से तंग आकर शुक्रवार रात को अपने परिवार की हत्या कर ख़ुदकुशी कर ली. पुलिस के मुताबिक, चाक 135 में रहने वाले राम चंद ने गरीबी के कारण परिवार में कलह से तंग आकर धारदार हथियार से अपने परिवार की हत्या कर दी और उसके बाद उसने नस काटकर आत्महत्या कर ली.”

पाकिस्तान के दक्षिणी पंजाब में रह रही राम चंद की बहन से एक स्थानीय चैनल रोही ने बात की. राम चंद की बहन ने बताया कि वो 2 साल से कोई काम नहीं कर रहा था और उसकी पत्नी उसे काम ढूंढने के लिए बोल रही थी. ब्रॉडकास्ट में 2 मिनट 30 सेकंड से आगे राम चंद की बहन का बयान सुना जा सकता है. रिपोर्टर को कहते हुए सुना जा सकता है कि दरवाज़ा बंद था और लोगों की मदद से धक्का देकर घर में दाखिल होना पड़ा था.

 

ऑल्ट न्यूज़ ने पाकिस्तानी पत्रकार शिराज़ हसन से संपर्क किया और उन्होंने हमें राम चंद की पत्नी के भाई तीरथ राम द्वारा दर्ज कराई गयी FIR की कॉपी भेजी. ये FIR उर्दू में है और इसमें लिखा है, “मेरे जीजा राम चंद ने शिकायत से तंग आकर अपनी पत्नी लक्ष्मी माई और बच्चे, प्रेम कुमार, अंजलि माई और अनिका माई की 5-3-2021 को कुल्हाड़ी और खंजर से हत्या कर दी … उसने खुद को भी चोट पहुंचाई. इसकी सूचना मिलते ही मैं जीना राम, बरद राम और चित्रा राम के साथ मौके पर पहुंचा. और मैंने अपनी बहन लक्ष्मी माई, उसके बेटे प्रेम कुमार और बेटियों अंजलि माई और अनिका माई को मृत पाया. उनकी गर्दन पर चाकू के निशान थे. राम चंद को उसका भाई अस्पताल में भर्ती कराने ले गया था. राम चंद मेरी बहन पर शक करता था. उसने अपनी पत्नी और बच्चों की कुल्हाड़ी से हत्या कर दी और फिर चाकू से खुद को मारने की कोशिश की. मुझे बाद में पता चला कि राम चंद भी इलाज के दौरान दम तोड़ चुका है.”

पाकिस्तान में एक हिन्दू शख्स ने कथित तौर पर अपने पूरे परिवार की हत्या कर दी और फिर खुद भी आत्महत्या कर ली. इस घटना को भारतीय मीडिया में साम्प्रदायिक रंग देते हुए ये कहकर दिखाया गया कि ये पाकिस्तान में हिन्दू समुदाय के खिलाफ़ होने वाले अपराध का हिस्सा है.


हफ्तेभर के फ़ैक्ट-चेक्स: जानें कौन-सी भ्रामक और ग़लत सूचनाएं इस हफ्ते सोशल मीडिया पर बनी रहीं?

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged: