सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल है जिसमें गौतम बुद्ध की मूर्ति के सामने एक भिक्षु को पैसे गिनते हुए देखा जा सकता है. यूज़र्स ने वीडियो शेयर करते हुए दावा किया है कि बिहार के बोधगया स्थित महाबोधि मंदिर में बौद्ध भिक्षु ने दान पेटी से पैसे चुरा लिए.

ज़ी न्यूज़ ने वायरल वीडियो को अपने ऑफ़िशियल यूट्यूब चैनल पर अपलोड किया. वीडियो के डिस्क्रिप्शन में कहा गया है, “बोधगया मंदिर में चोरी का CCTV वीडियो सामने आया है. आपको बता दें कि बिहार के गया स्थित महाबोधि मंदिर से पैसे चोरी होने का वीडियो सामने आया है. एक बौद्ध भिक्षु ने महाबोधि मंदिर के गर्भगृह से पैसे चुरा लिये. जाते-जाते वो भगवान बुद्ध के पैर छूते, उन्हें प्रणाम करते और माफी मांगते दिखे.”

इंडिया टीवी (@indiatvnews) ने वीडियो को ट्वीट करते हुए लिखा, “बिहार: बोधगया में महाबोधि मंदिर के गर्भगृह में चोरी, बौद्ध भिक्षु का पैसे चुराते हुए वीडियो वायरल.” वीडियो को 33,400 से ज़्यादा व्यूज मिले हैं. इसी मामले पर इंडिया टीवी ने एक रिपोर्ट भी पब्लिश की जिसका टाइटल था, ‘बिहार: बोधगया के महाबोधि मंदिर के गर्भगृह में चोरी, बौद्ध भिक्षु का रुपए चुराते हुए VIDEO वायरल.’

This slideshow requires JavaScript.

मीडिया आउटलेट नियो पोलिटिको के संस्थापक, शुभम शर्मा (@Shubham_fd) ने लिखा, “देखें कि कैसे बौद्ध भिक्षु दान पेटियों से पैसे चुरा रहे हैं. वे आए दिन लोगों को बेवकूफ़ बनाते रहते हैं और पैसे चुराते रहते हैं. ये वीडियो बिहार के महाबोधि मंदिर के CCTV में कैद हुआ है.” ट्वीट को 28,500 से ज़्यादा बार देखा गया.

नियो पोलिटिको हिंदी (@NP_हिंदी) ने भी इसी दावे के साथ वीडियो शेयर किया.

लोकमत हिंदी, न्यूज़4नेशन और ABP न्यूज़ जैसे अन्य मीडिया आउटलेट्स ने भी अपनी रिपोर्ट में इस दावे को बढ़ाया. ये वीडियो फ़ेसबुक पर भी वायरल हो गया.

This slideshow requires JavaScript.

फ़ैक्ट-चेक

X (ट्विटर) पर एक की -वर्डस सर्च करने से हमें बिहार में गया पुलिस द्वारा पोस्ट किया गया एक बयान मिला. इसमें लिखा था, ”जांच के दौरान बोधगया मंदिर प्रबंध समिति (BTMC) के सचिव ने पुलिस को बताया कि ये वीडियो कई महीने पहले सर्दी के मौसम में लिया गया था. भगवान बुद्ध की मूर्ति को भक्तों द्वारा एक कपड़ा अर्पित किया जाता है और इसे चढ़ाने वाले भिक्षु को कुछ पैसे दान किए जाते हैं. मंदिर में चढ़ाया गया दान दान पेटी में जाता है, जो बंद और सुरक्षित रहता है. वीडियो में BTMC भिक्षु धम्मिका नकदी गिनते और चीवर (कपड़ा या कपड़े का एक टुकड़ा) चढ़ाने के लिए दी गई राशि को अपने पास रखते हुए दिखाई दे रहे हैं. चोरी का आरोप निराधार है.”

गया पुलिस ने आगे कहा कि, ”अभी तक की जांच के मुताबिक ये ख़बर और वायरल वीडियो ग़लत है. गया पुलिस मंदिर की सुरक्षा को लेकर संवेदनशील और प्रतिबद्ध है और इस सिलसिले में लगातार कार्रवाई कर रही है.’

ऑल्ट न्यूज़ ने BTMC के सदस्य डॉ. अरविंद कुमार सिंह से बात की. उन्होंने कहा, “पूरा मामला CCTV कैमरे में रिकॉर्ड हो गया, जिसमें साफ दिख रहा है कि दान पेटी साधु से 10 मीटर की दूरी पर थी. साधु ने दानपेटी से पैसे नहीं निकाले. जैसे हम किसी पुजारी को दक्षिणा (एक छोटा सा दान शुल्क) देते हैं, वैसे ही बौद्ध भक्त अपनी ओर से भगवान बुद्ध को कपड़ा चढ़ाने के लिए एक भिक्षु को दान देते हैं. ये दक्षिणा साधु की होती है और दान पेटी में दान किया गया पैसा मंदिर निधि का होता है. अगर किसी भक्त ने भगवान को चीवर चढ़ाने के लिए उन्हें दक्षिणा के रूप में कोई नकद राशि दी है, तो वो राशि साधु की होती है. भिक्षु (धम्मिका) की ग़लती सिर्फ इतनी थी कि उसने पैसे अपनी जेब में रखने के बजाय गिनना शुरू कर दिया जैसा कि वायरल क्लिप में दिखाया गया है.

अरविंद कुमार सिंह ने आगे कहा, “एक स्थानीय साधु ने इस वायरल वीडियो को लगभग 6 महीने पहले रिकॉर्ड किया था. कुछ दिन पहले उसका धम्मिका से झगड़ा हुआ था और धम्मिका को बदनाम करने के लिए स्थानीय साधु ने वीडियो ऑनलाइन शेयर कर दिया…हमने CCTV फ़ुटेज देखी है. BTMC अधिकारी धम्मिका के खिलाफ़ कोई कार्रवाई नहीं करेंगे क्योंकि उनके खिलाफ आरोप निराधार हैं.

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक, BTMC सचिव डॉ. महाश्वेता महारथी ने कहा है कि वायरल क्लिप की जांच के आधार पर बौद्ध भिक्षु धम्मिका को चोरी के आरोप से क्लीन चिट दे दी गई है. बुद्ध की मूर्ति को भक्तों द्वारा चीवर अर्पित किया जाता है, और भिक्षु कुछ पैसे भी दिया जाता है. मंदिर में चढ़ाया गया दान दान पेटी में जाता है.

कुल मिलाकर, सोशल मीडिया यूज़र्स ने एक बौद्ध भिक्षु के वीडियो को ग़लत तरीके से शेयर किया है, जिसमें उन्हें पैसे गिनते हुए देखा जा सकता है. आरोप लगाया गया कि वो बिहार के महाबोधि मंदिर में रखे दान बॉक्स से पैसे चुरा रहा था. हालांकि, हमारी फ़ैक्ट-चेक से पता चला कि ये दावे झूठे थे. बुद्ध को चीवर चढ़ाने के लिए भक्तों द्वारा दक्षिणा के रूप में दान किए गए पैसे को भिक्षु गिन रहा था.

अबीरा दास ऑल्ट न्यूज़ में इंटर्न हैं.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.