पूर्वी लद्दाख में LAC पर 9 महीने दोनों देशों की सेनाओं के बीच तनातनी के बाद फ़रवरी के दूसरे हफ़्ते में चीनी और भारतीय आर्मी ने पैंगोंग त्सो के दक्षिणी इलाके से ख़ुद को पीछे हटाया. द इंडियन एक्सप्रेस ने बताया कि भारतीय सेना ने वीडियो क्लिप्स और फ़ोटोग्राफ़्स रिलीज़ की हैं जिसमें “देखा जा सकता है कि चीनी टुकडियां अपने बंकर उखाड़ रही हैं और हाथों और मशीन से ईंटों के बने बंकर भी हटा रही हैं.”

सोशल मीडिया पर भारतीय सेना द्वारा रिलीज़ किये गए इस वीडियो के इर्द-गिर्द ही एक वीडियो शेयर किया जा रहा है. इसमें वर्दीधारी आदमियों को पहाड़ी इलाके में जेसीबी मशीनों के साथ देखा जा सकता है. ट्विटर यूज़र @Shrish_1987 ने ये वीडियो जिस कैप्शन के साथ शेयर किया, उसके मुताबिक़ जब 150 चीनी टैंक और 500 चीनी सैनिक इलाक़ा खाली कर के गए तो भारतीय सेना ने उनके बंकर उखाड़े. (ट्वीट का आर्काइव लिंक)

यही वीडियो फ़ेसबुक पर कई यूज़र्स ने इसी कैप्शन के साथ शेयर किया. (आर्काइव लिंक)

 

जो सोचे, जो चाहे वो करके दिखा दें
हम वो हैं जो दो और दो पाँच बना दें…

पांगोंग झील से १५० चीनी टैंक और लगभग ५,000 चीनी सैनिकों के भागने के पश्चात ….
भारतीय सेना ने जेसीबी से सभी चीनी बंकर ध्वस्त कर दिए ….!
🇮🇳💪🇮🇳

Posted by R.D. Amrute on Tuesday, 16 February 2021

फ़ैक्ट-चेक

हमने इस वीडियो को कई फ़्रेम्स में तोड़ा और इनमें से एक फ़्रेम का रिवर्स इमेज सर्च किया. इससे हमें इंडिया टीवी की एक वीडियो स्टोरी मिली जिसका कैप्शन था – “Chamoli disaster: 56 bodies recovered, rescue operation underway” (अनुवाद – चमोली आपदा: 56 शरीर मिले, राहत कार्य जारी)

स्क्रॉल ने 16 फ़रवरी को रिपोर्ट किया था कि भारतीय तिब्बती सीमा पुलिस (ITBP) ने चमोली ज़िले के रैनी गांव में खोज और बचाव कार्य करवाया था. उत्तराखंड में ग्लेशियर के फटने से भीषण बाढ़ आई और लगभग 60 लोगों की मौत हो गयी जबकि 140 लोग लापता था.

ITBP के आधिकारिक ट्विटर हैंडल ने भी ये वीडियो 15 फ़रवरी को ट्वीट किया था.

कुल मिलाकर ये पूरे यकीन से कहा जा सकता है कि उत्तराखंड में ITBP के बचाव कार्य के वीडियो को इस ग़लत दावे के साथ शेयर किया गया कि भारतीय सेना ने चीनी टुकड़ियों के वापस जाने के बाद उनके बंकरों को तहस-नहस किया. दोनों ओर की टुकड़ियों के पीछे हटने का वीडियो नीचे देखा जा सकता है.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged:
About the Author

Aqib is monitoring and researching mis/disinformation at Alt News