रोहिंग्या शरणार्थी की पुरानी तस्वीर अयोध्या में दिये से तेल निकालने वाली लड़की के झूठे दावे से प्रसारित

फेसबुक पेज हिन्दू धर्म योद्धा ने एक पोस्ट साझा करते हुए दावा किया कि अयोध्या में दिवाली के दिये से तेल इकठ्ठा करने वाली गरीब लड़की रोहिंग्या मुस्लिम है। इस पोस्ट को करीब 15,000 बार साझा किया गया है –“इस अवैध रोहींगया लड़की को वाम और सेकुलर गैंग ने एक षड़यंत्र के तहत अयोध्या पहुंचाया ज़िससे एक झूठा प्रोपेगैंडा फैलाय़ा जा सके, अरे बेशर्मो तुम्हारा प्लान फेल हो गया।”

26 अक्टूबर को, अयोध्या में “दीपोत्सव” कार्यक्रम के तहत 5 लाख से अधिक दिये जलाए गए थे। इस कार्यक्रम को उत्तर प्रदेश सरकार ने “राज्य मेला” घोषित किया था। कैबिनेट ने इस समारोह के लिए 1.33 करोड़ का अनुमानित बजट भी पेश किया था।

यह पोस्ट फेसबुक पर वायरल है और ट्विटर पर भी व्यापक रूप से साझा किया गया है।

तथ्य जांच

इस तस्वीर को दो साल पहले बांग्लादेश में लिया गया था। यह रोहिंग्या मुस्लिम शरणार्थी में शामिल एक लड़की को दर्शाता है, जो म्यांमांर को 6 सितंबर, 2017 को छोड़ कर दूसरे स्थान पर चल गए थे।

अयोध्या की तस्वीर में दिख रही लड़की के चेहरे की तुलना अन्य तस्वीर में दिख रही लड़की से करने पर, दोनों के चेहरे के बीच का अंतर स्पष्ट दिखाई देता है। जैसे कि – आंखो का रंग, नाक, होंठ में काफी भिन्नता है।

इसके अलावा, अयोध्या में दिख रही गरीब लड़की की तस्वीर 29 अक्टूबर को इंटरनेट पर साझा की गई थी।

अयोध्या में दिये से तेल निकाल रही लड़की का एक वीडियो भी है। इस गलत जानकारी की पड़ताल बूमलाइव ने भी की है।

हालांकि, दिये से तेल निकालने वाली लड़की की पहचान स्वंतंत्र रूप से नहीं हुई है, मगर यह लड़की रोहिंग्या मुस्लिम शरणार्थी नहीं है, जिसकी तस्वीर 2017 में खींची गई थी।

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend