4 फ़रवरी को कोलकाता में 8 वर्षीय लड़की की हत्या का एक मामला सामने आया था. पुलिस ने घटनास्थल देखते हुए आशंका जताई थी कि इस लड़की का बलात्कार हुआ था. इस दौरान एक लड़की की तस्वीर शेयर की जा रही है जिसे इस घटना का बताया जा रहा है. यूज़र्स तस्वीर शेयर करते हुए लिख रहे है कि लोग पश्चिम बंगाल में हुई इस घटना को लेकर कोई प्रदर्शन नहीं कर रहे हैं.

ट्विटर यूज़र उत्कर्ष श्रीवास्तव ने ये तस्वीर शेयर की जिसे आर्टिकल लिखे जाने तक 619 बार रीट्वीट किया गया. (आर्काइव लिंक)

ट्विटर यूज़र अंजली देवी ने ये तस्वीर इसी दावे के साथ ट्वीट की. (आर्काइव लिंक)

कांग्रेस नेता अर्चना डालमिया ने ये तस्वीर शेयर करते हुए साथ में एक अख़बार की खबर की तस्वीर भी ट्वीट की. बच्ची की तस्वीर पर यूपी लिखा हुआ है. मगर साथ में ट्वीट की गयी अख़बार की तस्वीर में जो ख़बर थी, वो कोलकाता में 8 वर्षीय बच्ची की संभावित बलात्कार के बाद हत्या की थी.

फ़ेसबुक और ट्विटर पर ये तस्वीर कोलकाता की बताकर वायरल है.

फ़ैक्ट-चेक

वायरल हो रही इस तस्वीर का रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें अमर उजाला की 27 अक्टूबर 2020 का आर्टिकल मिला. आर्टिकल में इस तस्वीर को उत्तर प्रदेश के एटा में हुई घटना का बताया गया है. ख़बर के मुताबिक़, एक लड़के की छेड़खानी से परेशान 15 वर्षीय लड़की ने अस्पताल की चौथी मंज़िल से कूदकर अपनी जान दे दी थी. रिपोर्ट में बताया गया है कि पहले ये लड़का इस लड़की के घर पर किराये से रहता था. लेकिन बाद में घर खाली करवा दिया गया. फिर भी ये लड़का उसे परेशान करता था. इसी से तंग आकर लड़की ने आत्महत्या कर ली थी.

आगे की-वर्ड्स सर्च करने पर 28 अक्टूबर 2020 की ABP गंगा की रिपोर्ट मिली. इस रिपोर्ट के मुताबिक, एटा में लड़की की खुदखुशी के मामले में आरोपी को गिरफ़्तार कर लिया गया था. आरोपी व्यक्ति के पास लड़की की कुछ तस्वीरें थीं. इसी के ज़रिए वो लड़की को ब्लैकमेल करता था. रिपोर्ट के मुताबिक, “पुलिस ने बताया कि आरोपी के पास पीड़िता की तस्वीरें थी. तस्वीरों के जरिए वो पीड़िता को ब्लैकमेल करता था. पुलिस ने उसके खिलाफ यौन उत्पीड़न और आत्महत्या के लिए उकसाने का केस दर्ज किया है.”

कुल मिलाकर, अक्टूबर 2020 में एक लड़के की हरकतों से परेशान होकर आत्महत्या करने वाली लड़की की तस्वीर हाल में कोलकाता में सामने आए संभावित बलात्कार के बाद हत्या के मामले की बताकर शेयर की गई.


आज तक ऐंकर नवज्योत रंधावा के बारे में फैली ग़लत जानकारी | ट्रैक्टर परेड में जोड़ा मुस्लिम ऐंगल :

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.