एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है. इसमें एक महिला मंदिर से निकलकर एक आदमी के साथ बाइक पर बैठती है. थोड़ी ही दूर आगे जाने पर उसका पल्लू बाइक के पहिये में फंस जाता है. इसके बाद पास से गुज़र रही एक मुस्लिम महिला उसे अपना बुर्का पहनने के लिए देती है. कई लोग इस घटना को सच मानकर शेयर कर रहे हैं.

ज़फ़र सैफी नाम के यूज़र ने वीडियो ट्वीट करते हुए ऐसा ही दावा किया. इस वीडियो पर आर्टिकल लिखे जाने तक 1.6 लाख से ज्यादा व्यूज़ आ चुके हैं. कई यूज़र्स द्वारा वीडियो के बारे में पॉइंट आउट करने के कई घंटों बाद ज़फ़र ने इस ट्वीट थ्रेड में लिखा कि उन्हें नहीं पता कि ये वीडियो असली है या स्क्रिप्टिड, लेकिन इसमें संदेश अच्छा है. (आर्काइव लिंक)

आसिफ़ नाम के यूज़र ने इसे फ़ेसबुक पर पोस्ट करते हुए ऐसा ही दावा किया. साथ ही ये भी लिखा, “तुम नफरत करते रहो हमे तो मुहब्बत ही आती है.” इसे आर्टिकल के लिखे जाने तक 9 हज़ार से ज़्यादा बार देखा जा चुका है और 200 से ज़्यादा बार शेयर किया गया है.

आशिक रसूल नाम के यूज़र ने भी फ़ेसबुक पर वीडियो पोस्ट करते हुए ऐसा ही दावा किया.

ऐसे ही ये वीडियो ट्विटर और फ़ेसबुक पर वायरल है.

फ़ैक्ट-चेक

ऑल्ट न्यूज़ ने पहले भी ऐसे कई सीसीटीवी वीडियोज़ का फ़ैक्ट-चेक किया है जिसे समय-समय पर अलग-अलग दावों के साथ शेयर किया जाता रहा है. इस वीडियो में कई ऐसे पॉइंट्स हैं जिससे हमें लगा कि ये एक स्क्रिप्टेड वीडियो है. इसमें सीसीटीवी फुटेज़ की पिक्चर क्वालिटी बिल्कुल साफ है जबकि आमतौर पर सीसीटीवी फुटेज़ का वीडियो इतना हाई रिज़ोंल्यूशन का नहीं होता. इस वीडियो की रिकॉर्डिंग टेम्पलेट और साउंड इफ़ेक्टस् भी पहले के स्क्रिप्टेड वीडियोज़ से मेल खाती है.

इसी जानकारी के आधार पर हम अक्सर स्क्रिप्टेड वीडियो शेयर करने वाले यूट्यूब चैनल ‘3RD EYE’ पर गए. इस चैनल पर इसीलिए क्यूंकि हमने इसके कई स्क्रिप्टेड वीडियोज़ की पड़ताल पहले की है. हमें वायरल वीडियो का पूरा हिस्सा इसी चैनल पर 23 अगस्त 2022 को अपलोड किया हुआ मिला. इस वीडियो के अंत में डिसक्लेमर दिया हुआ है जिसमें साफ तौर पर लिखा है कि इसके सभी पात्र काल्पनिक हैं, और इसे सिर्फ मनोरंजन और शिक्षा के उद्देश्य से बनाया गया है. इस वीडियो के डिसक्रिप्शन में भी लिखा है कि ये चैनल स्क्रिप्टेड ड्रामा के वीडियोज़ पोस्ट करती है जिसका उद्देश्य सिर्फ मनोरंजन है.

नीचे, आप पूरा वीडियो देख सकते हैं.

कुल मिलाकर, कई सोशल मीडिया यूज़र्स ने एक स्क्रिप्टेड ड्रामा का वीडियो असली घटना का मानकर शेयर किया. पहले भी हमने कई ऐसे वीडियोज़ का फ़ैक्ट-चेक किया है जिसे आप यहां क्लिक करके पढ़ सकते हैं.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.

Tagged:
About the Author

Abhishek is a journalist at Alt News.