सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें एक लॉज के भीतर एक तेंदुआ घूम रहा है. दावा किया जा रहा है कि ये जगह रणथम्भोर के ताज की है. वीडियो में तेंदुए को स्विमिंग पूल से पानी पीते हुए देखा जा सकता है.

रिटायर्ड एयर मार्शल अनिल चोपड़ा ने भी ये वीडियो ट्वीट किया. इस ट्वीट को 1,700 रीट्वीट मिलने के बाद डिलीट कर लिया गया.

आईपीएस अधिकारी एचजीएस धलिवाल ने ये वीडियो ट्वीट करते हुए दावा किया कि ये लोनावला के आस-पास कहीं का है. ट्वीट डिलीट होने तक 100 से कुछ कम लाइक्स आ चुके थे. ट्वीट का आर्काइव यहां देखें.

इंडिया टुडे, जो कि फ़ैक्ट चेकिंग डेस्क AFWA चलाता है, ने ट्रेंड करने वाले इस वीडियो पर 16 सितम्बर 2020 को एक आर्टिकल पब्लिश किया. इस रिपोर्ट में वीडियो के साथ इसके लिए किये जा रहे सभी अलग-अलग दावे लिखे गये थे.

फ़ैक्ट-चेक

एक कीवर्ड सर्च ने हमें न्यू यॉर्क टाइम्स के एक आर्टिकल तक पहुंचाया जिसे 9 सितम्बर, 2020 को पब्लिश किया गया था. आर्टिकल में लिखा है, “साउथ अफ़्रीका में एक तेंदुआ खाने की तलाश में भटकते हुए लग्ज़री होटल में पहुंच गया.”

इस रिपोर्ट के मुताबिक ये तेंदुआ साबी सैंड रिज़र्व के सिंगिटा इबोनी लॉज में देखा गया. हालांकि जो वीडियो इस आर्टिकल के साथ और वन संरक्षण एवं इकोटूरिज्म कंपनी सिंगिटा के ऑफिशियल फ़ेसबुक पेज पर पब्लिश किया गया है, वो अलग है.

हमारे रिसर्च के अनुसार ये वीडियो सिंगिटा के बोल्डर्स लॉज में बनाया गया है जो सिंगिटा इबोनी लॉज से 1 किलोमीटर से भी कम दूरी पर है.

अब हम विस्तार से बतायेंगे कि हम इस नतीजे पर कैसे पहुंचे. सबसे पहले हमें बोल्डर्स लॉज के वीडियो यूट्यूब पर मिले. यूट्यूब चैनल Celestielle पर जो वीडियो हमें मिला, और वायरल वीडियो, दोनों के विज़ुअल्स बिल्कुल एक हैं. 13 जून, 2017 को अपलोड किये गये इस वीडियो का टाइटल है, “Celestielle #248 Singita Boulders Lodge, Sabi Sand Private Reserve, South Africa.”

उसके बाद हमने वायरल वीडियो और Celestielle के वीडियो के कई फ़्रेम्स की तुलना की. नीचे दी गयी तस्वीर में दोनों वीडियो के फ़्रेम की तुलना की गयी है. दोनों तस्वीरों में स्विमिंग पूल के पास कुर्सियों और पेड़ को मार्क किया गया है.

इसके अलावा वायरल वीडियो के एक और फ़्रेम की तुलना यूट्यूब चैनल के वीडियो से की गयी है (ऊपर वायरल वीडियो और नीचे यूट्यूब वीडियो फ़्रेम). इसमें हम देख सकते हैं कि वुडेन फ़्लोरिंग और टेबल, स्लाइड करने वाला शीशा और बालकनी, बिल्कुल एक जैसी हैं.

इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर और कमेंटेटर केविन पीटरसन ये वीडियो सोशल मीडिया पर सबसे पहले अपलोड करने वालों में शामिल थे. उन्होंने 3 सितम्बर, 2020 को इन्स्टाग्राम पर इस वीडियो के साथ 2 अन्य वीडियो और एक तस्वीर शेयर की थी. उन्होंने वीडियो की ज्यादा जानकारी नहीं दी थी लेकिन ये बताया कि वीडियो साउथ अफ़्रीका के उम्गानु लॉज का है.

 

View this post on Instagram

 

So this is all in the last few days in one area. Watch the 3 videos and then the final picture was taken at my place yesterday – @umganulodge. I’m really hoping a nasty accident doesn’t happen soon. But, the good news though, is that we humans are not a predators prey. We also know that these animals are treated with utmost respect so they do live very well alongside humans in the Sabi Sands area. It’s fascination to see though that coming out of a full lockdown in SA, these animals are being seen by the public a lot closer to rooms/reception areas. Possibly due to their territories shifting without humans being around or they just feel less pressure being in those areas cos they’ve been doing it for the last 6 months with no one around. We have to protect these beautiful creatures. We have to respect their space. Never get over familiar cos that’s when an accident could happen & the human won’t win! Anyway, enjoy these videos! Nature is THE BEST! ❤️

A post shared by Kevin Pietersen 🦏 (@kp24) on Sep 3, 2020 at 5:46am PDT

यह साफ़ है कि तेंदुए का जो वीडियो भारत का बताकर शेयर किया जा रहा है वो असल में साउथ अफ्रीका की एक लॉज का है.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
About the Author

Jignesh is a writer and researcher at Alt News. He has a knack for visual investigation with a major interest in fact-checking videos and images. He has completed his Masters in Journalism from Gujarat University.