क्लोज़ रिज़ल्ट्स का सच – दिल्ली में भाजपा 36 सीटों पर 2000 से कम वोटों के अंतर से हारी?

12 फरवरी को भारतीय जनता पार्टी (BJP) के सांसद सत्यदेव पचौरी ने कथित तौर पर दावा किया कि उनकी पार्टी दिल्ली विधानसभा चुनावों में 36 सीटें तक़रीबन 2000 वोटो के अंतर से हारी है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, “Add this to the seats won:8 It comes to 44 seats 3% more voting could have changed the entire game.” (अनुवाद – “इसे जीती हुई सीटों में शामिल करे: 8 जब 44 सीटों की बात आती है तो 3% प्रतिशत मत पूरी कहानी को बदल सकता था।”) यह ध्यान देने लायक है कि भाजपा ने अभी हाल ही में हुए दिल्ली विधानसभा चुनावों में 70 सीटों में से 8 सीटें जीती है और आम आदमी पार्टी ने राज्य में फिर से अपनी सरकार बनाई है। हालांकि, इस ट्वीट को डिलीट कर दिया गया है। (आर्काइव यहां देखा जा सकता है)

एक यूज़र बिश्वजीत रॉय ने भी यह समान दावा ट्वीट किया है। रॉय को गृह मंत्री अमित शाह, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, पियूष गोयल जैसे कई भाजपा नेता फॉलो करते हैं।

पड़ताल

ट्विटर पर सम्बंधित की-वर्डस सर्च करने से हमें सुदर्शन न्यूज़ के ऑफिशल ट्विटर हैंडल से की गई एक ट्वीट मिली। 11 फरवरी को ट्विट्टर पर न्यूज़ चैनल ने इस खबर को सुबह 10:57 बजे शेयर की थी। ट्वीट के मुताबिक, “भाजपा के आशा के कारन।” ट्वीट में बताया गया है कि भाजपा 36 सीटों पर तक़रीबन 2000 वोटों के अंतर से हारी है। हालांकि, यह महत्वपूर्ण है कि यह ध्यान देने लायक बात है कि चैनल का दावा परिणाम घोषित होने से पहले पार्टी का इतने वोटों से हार होने की बात को दर्शाता है।

12 फरवरी को प्रकाशित हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट में बताया गया है, “The Delhi assembly elections saw a close fight in at least 13 constituencies where victory margins ranged from below 7,000 votes to as low as 753” (अनुवाद –“दिल्ली चुनावों में कम से कम 13 सीटों पर नज़दीकी मुकाबला देखने को मिला, जिसमें जीत का अंतर 7,000 वोटों से लेकर 753 तक के कम वोटोंतक का रहा।”) रिपोर्ट के मुताबिक, पोल के परिणाम से इस बात का पता चलता है कि कम से कम 9 विधान सभा सीटों में करीबी लड़ाई थी, जिसमें जीतने वाले और रनर-अप के बीच 5000 से कम वोटों का अंतर था।

इसके बाद, हमने भारतीय चुनाव आयोग की वेबसाइट पर उपलब्ध चुनाव परिणाम का डाटा देखा। इससे हमने उपरोक्त रिपोर्ट की जानकारियों की पुष्टि की। सिर्फ दो भाजपा प्रत्याशी – बिजवासन से सत प्रकाश राणा (753) और आदर्श नगर (1589) से राज कुमार भाटिया – 2000 वोटों के अंतर से चुनाव हारे हैं।

दिल्ली विधानसभा चुनावों के परिणाम घोषित होने के एक दिन बाद भाजपा सांसद सत्यदेव पचौरी ने झूठा दावा किया कि 36 भाजपा प्रत्याशी 2000 वोटों के कम अंतर से चुनाव हारे है। हालांकि, असल में सिर्फ दो भाजपा प्रत्याशी बराबरी की टक्कर में थे।

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend