नासिक रेलवे स्टेशन से कुत्ते के मांस को ज़ब्त करने का फ़र्ज़ी दावा वायरल

सोशल मीडिया और व्हात्सप्प पर प्रसारित एक संदेश के अनुसार, नासिक रेलवे स्टेशन से अधिकारियों ने 500 किलोग्राम कुत्ते के मांस को ज़ब्त किया है। तस्वीर के साथ साझा संदेश में लिखा है –“आज नासिक रेलवे स्टेशन पर कुत्ते का मांस पकड़ा गया है। यह गोस्त हर रोज़ ढ़ाबा, रेस्टोरेंट और होटल में सप्लाई किया जाता है। मुंबई, नई मुंबई और दूसरी जगह यह सप्लाई किया जाता है। बहुत जल्द कौन कौन से रेस्टोरेंट में सप्लाई किया जाता है उसकी लिस्ट बाहर आएगी। मेहरबानी करके होटलों और ढाबों में वेजिटेरियन खाना खाएं” -(अनुवाद)

Posted by Mohammed Asim Asim on Tuesday, 26 November 2019

उपरोक्त पोस्ट में व्हाट्सप्प के स्क्रीनशॉट को पोस्ट किया गया है। 26 नवंबर को की गई इस पोस्ट को करीब 500 से ज़्यादा बार शेयर किया गया है। जैसा कि मालूम हुआ, यह व्हाट्सएप्प पर भी प्रसारित है। ऑल्ट न्यूज़ के अधिकृत एप्प पर भी इसकी पड़ताल करने के लिए कई अनुरोध प्राप्त हुए है।

संदेश में दावा किया गया है कि मुंबई और नई मुंबई के रेस्टोरेंट और ढाबा में हर रोज़ कुत्ते के मांस को सप्लाई किया जाता है, जल्द ही उन रेस्टोरेंट के लिस्ट को भी जारी किया जाएगा।

तथ्य जांच: झूठा दावा

प्रसारित किया गया दावा गलत है। गूगल पर इस तस्वीर को रिवर्स सर्च करने पर, ऑल्ट न्यूज़ को द न्यूज़ मिनट के लेख में यह तस्वीर मिली। इस लेख को नवंबर 2018 में प्रकाशित किया गया था, जिसका शीर्षक –“चेन्नई रेलवे स्टेशन से ज़ब्त किया गया मांस कुत्ते का नहीं है : खाध सुरक्षा अधिकारी”। (अनुवाद)

नवंबर 2018 में चेन्नई के एग्मोर रेलवे स्टेशन पर दो टन से ज़्यादा सड़ा हुआ मांस पाया गया था। इस मांस को जयपुर से लाया गया था, और शव पर पूंछ की वजह से इसका कुत्ते के मांस होने का संदेह हुआ। हालांकि, खाद्य सुरक्षा अधिकारीयों ने इस बात की पुष्टि की कि यह मांस बकरे का था ना कि कुत्ते का।

इस प्रकार यह ध्यान देने लायक है कि नासिक रेलवे स्टेशन से कुत्ते के मांस को ज़ब्त करने का दावा गलत है। यह तस्वीर नवंबर 2018 में चेन्नई के एग्मोर रेलवे स्टेशन पर सड़े हुए मांस को ज़ब्त करने की घटना से संबंधित है। इस साल की शुरुआत में एक ऐसी ही समान घटना में कुत्ते के मांस को कोलकाता के एक रेस्टोरेंट से ज़ब्त करने का झूठा दावा किया गया था।

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend