यति नरसिंहानन्द सरस्वती के गिरफ्तार होने की खबर सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल है.

Unbreaking India के लेखक संजय दीक्षित (@Sanjay_Dixit) ने ट्वीट करते हुए लिखा, “यति नरसिंहानंद सरस्वती को पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया है, मौलाना साद खुले घूम रहे हैं.” इस ट्वीट पर अबतक 1900 से ज्यादा रीट्वीट्स व 4000 से ज्यादा लाइक्स हैं. (आर्काइव लिंक)

संजय दीक्षित ने अपने ट्वीट को रीट्वीट करते हुए एक यूट्यूब वीडियो शेयर किया. साथ में उन्होंने लिखा “नरसिंह आनंद सरस्वती गिरफ्तार ? उन्हें खुद सुनें, क्या उत्तर प्रदेश पुलिस में इतनी हिम्मत है कि वे उन लोगों को गिरफ्तार कर सकें जो भारी संख्या में जमा होकर सर तन से जुदा चिल्लाया ? दिल्ली बॉर्डर पर गुंडों को छू नहीं सकते। शर्म करो” हालांकि इस ट्वीट को अब डिलीट कर दिया गया है, दिए गए आर्काइव लिंक पर आप इस ट्वीट को देख सकते हैं.

वीडियो में यति नरसिंहानन्द सरस्वती एक गाड़ी में बैठे हैं और कह रहे है “मैं शाहजहांपुर से आज पुलिस अरेस्ट पे हूं, ये मेरे पीछे आप देख सकते हैं पुलिस की गाड़ियां हैं, मेरे आगे देख सकते हैं पुलिस की गाड़ियां हैं ये सारी. मौलाना साद को नहीं पकड़ सकते ये लोग. ये किसी मुसलमान को नहीं पकड़ सकते, केवल अपनी ताकत मुझपे दिखा सकते क्योंकि मैं कमजोर हूं. हिंदुओं संभल जाओ, कल दूसरा समय नहीं मिलने वाला है. हम तो आज हैं, कल नहीं हैं. कोई बड़ी बात नहीं है हमारा होना या न होना. लेकिन तुम्हारे बच्चों को खा जाएंगे मुसलमान.”

इस वीडियो को शेयर करते हुए @IamNotSecular नाम के एक यूजर ने लिखा, “नरसिंहानंद सरस्वती को क़ुरआन के छंद व मुहम्मद की जिंदगी को कोट करने के लिए गिरफ्तार किया गया है. यति गलत हैं या इस्लाम गलत है? वहीं दूसरी तरफ अमानतुल्लाह खान व अन्य जिहादी जिन्होंने यति जी के सर को धड़ से अलग करने की धमकी दी थी, वे खुले घूम रहे”

कई और ट्विटर यूजर (1, 2, 3, 4, 5, 6) ने भी नरसिंहानंद सरस्वती के गिरफ़्तार होने की ख़बर शेयर की.

कई यूट्यूब चैनलों ने भी नरसिंहानंद सरस्वती के अरेस्ट होने की खबर शेयर की जिसे कुल मिलाकर अबतक करीब 95,000 बार से ज्यादा देखा जा चुका है. (1, 2 , 3)

फ़ैक्ट चेक

यति नरसिंहानन्द सरस्वती के गिरफ़्तारी की खबर झूठी है, पुराने वीडियो के हवाले से सोशल मीडिया पर गलत जानकारी शेयर की जा रही है.

यति नरसिंहानन्द सरस्वती ने संजय दीक्षित के ट्वीट पर रिप्लाई करते हुए लिखा “हर हर महादेव संजय जी, मैं बिलकुल ठीक हूँ, कोई अरेस्टिंग नहीं हुई है।”

 

उत्तर प्रदेश पुलिस ने संजय दीक्षित के ट्वीट को रिप्लाई किया व इस खबर का खंडन करते हुए ट्वीट किया “आरोपः- शाहजहाँपुर पुलिस द्वारा यति नरसिंहानंद सरस्वती जी महाराज को गिरफ्तार किये जाने की खबर / वीडियो वायरल होने के सम्बन्ध मे।

जनपद शाहजहाँपुर पुलिस द्वारा इस तरह की कोई कार्यवाही/गिरफ्तारी नही की गयी है वायरल वीडियों में लगायें गये आरोप का सम्बन्ध शाहजहांपुर पुलिस से नही है यह पूर्णतयः भ्रामक है शाहजहाँपुर पुलिस इसका खण्डन करती है।”

पुराना वीडियो

30 जुलाई 2020 को दैनिक जागरण में प्रकाशित एक खबर के मुताबिक, शाहजहांपुर पुलिस ने नरसिंहानन्द सरस्वती को अयोध्या जाते वक्त रोका था. राष्ट्रीय मुस्लिम मंच से जुड़े छत्तीसगढ़ निवासी फ़ैज़ के अयोध्या राम मंदिर के भूमि पूजन समारोह में शामिल होने के विरोध में अपने समर्थकों के साथ निकले यति नरसिंहानन्द सरस्वती को पुलिस ने शाहजहांपुर में रोक दिया था व पुलिस कस्टडी में लेकर वापस गाज़ियाबाद भेज दिया था. वायरल हो रहे वीडियो का संबंध इसी घटना से है.

इस घटना से जुड़ी अख़बार में छपी ख़बर की तस्वीर को नरसिंहानन्द सरस्वती ने अपने ट्विटर हैंडल से भी शेयर किया था.

बाद में संजय दीक्षित ने भी ट्वीट करते हुए अपने ट्वीट में शेयर की गई ख़बर का खंडन किया.

कुल मिलाकर, नरसिंहानन्द सरस्वती की गिरफ़्तारी नहीं हुई है. वायरल हो रहा वीडियो पुरानी घटना का है. उस वक़्त भी नरसिंहानन्द सरस्वती की गिरफ़्तारी नहीं हुई थी. पुलिस ने अयोध्या जाते वक्त उन्हें रोका था और वापस लौटा दिया था.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
About the Author

Abhishek has completed his bachelor's degree in Journalism and Mass Communication, currently working as a content writer in Careers 360, interested in fact checking.