सोशल मीडिया पर तरह-तरह की तस्वीरें, वीडियोज़ और ऑडियोज़ वायरल हैं. इनके दम पर अक्सर ग़लत दावे और भ्रामक जानकारियां फैलाई जाती हैं. इसी क्रम में एक वायरल तस्वीर के बारे में हम बात करेंगे. इस तस्वीर में एक नवजात बच्ची दिखती है जो कि देखने में नॉर्मल नहीं है. दावा है कि इस बच्ची ने जन्म लेने के बाद कहा कि अगर आज की रात सो गए तो हमेशा के लिए सो जाएंगे. खान एजाज़ नाम के यूज़र ने इन तस्वीरों और वीडियो को शेयर करते हुए लिखा – “आज की बुरी खबर गरोठ गांव में एक लड़की हुई है जिसकी 1 घंटा भी नहीं हुआ है और वह बोल रही है कि जो सो गए वह सो गए और जो जग गए जो जग गए और उसकी मां तो मर चुकी है.” खान के इस पोस्ट को ये आर्टिकल लिखे जाने तक 4,400 बार शेयर किया जा चुका है. (आर्काइव किया हुआ पोस्ट)

आज की बुरी खबर गरोठ गांव में एक लड़की हुई है जिसकी 1 घंटा भी नहीं हुआ है और वह बोल रही है कि जो सो गए वह सो गए और जो जग गए जो जग गए और उसकी मां तो मर चुकी है

Posted by Khan Ajaz on Tuesday, 24 March 2020

ट्विटर यूज़र ‘रिया हिन्दुस्तानी’ ने ये वीडियो शेयर करते हुए एक और दावा किया है. रिया ने दावा किया कि राजस्थान में एक लड़की ने जन्म लेते ही कुछ बोला और उसके 2 घंटे बाद बच्ची की मौत हो गई. (ट्वीट का आर्काइव लिंक)

इस दावे की सच्चाई जानने के लिए ऑल्ट न्यूज़ के ऑफ़िशियल ऐप पर हमें कुछ रीक्वेस्ट मिली हैं.

फ़ैक्ट-चेक

ऑल्ट न्यूज़ ने अपनी जांच में पाया कि सोशल मीडिया में शेयर हो रहा दावा बिल्कुल ग़लत है. शेयर हो रही तस्वीरों में दिख रहे एक बोर्ड पर “स्वास्थ्य केंद्र कालनद्र” लिखा हुआ है. इसके अलावा वीडियो में एक महिला राजस्थानी भाषा बोलते हुए सुनाई दे रही है. इसी के आधार पर राजस्थान में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के बारे में पता लगाना शुरू किया. सर्च करने पर हमने पाया कि कालन्द्री सिरोही ज़िले का एक गांव है. गांव में एक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र भी है. हालांकि, सामुदायिक केंद्र से हमारा संपर्क नहीं हो पाया, लेकिन सामुदायिक केंद्र के सीनियर डॉक्टर एस भाटी से बात करने पर पता चला कि तस्वीर में दिखने वाले डॉक्टर वही हैं.

ऑल्ट न्यूज़ से बात करने पर उन्होंने बताया -“हां, ये डॉक्टर मैं ही हूं. ये बच्चा मरा हुआ ही पैदा हुआ था और बच्चे की मां अभी भी जिंदा है.” बच्चे की बीमारी के बारे में उन्होंने आगे बताया – “ऐसे बच्चों को फ़ॉलिक एसिड की कमी होती है और इसकी वजह से उनका पूरा विकास नहीं हो पाता है. इस कन्डिशन को मेडिकल भाषा में ‘Anencephaly’ कहा जाता है. ये दिमाग के हिस्से ‘न्युरल ट्यूब’ का विकास नहीं होने देता है. कई बार बच्चों के शरीर के पिछले हिस्से में पानी की गांठें भी बन जाती हैं.”

अमेरिका के ‘सेंटर फ़ॉर डिज़ीज़ कंट्रोल एंड प्रिवेंशन’ ने ‘Anencephaly’ के बारे में पूरी जानकारी अपनी वेबसाइट पर शेयर की है. ये एक ऐसी बीमारी है जो आम तौर पर नवजात शिशुओं में पाई जाती है. इस तरह की बीमारी में, ‎बच्चा एक अविकसित मस्तिष्क के साथ पैदा होता है.

डॉ. भाटी ने कुछ वीडियोज़ भी भेजे जिसमें वो इस पूरी घटना के बारे में बता रहे हैं.

 

इस तरह ये बात साफ़ हो जाती है कि ‘Anencephaly’ कन्डिशन के साथ राजस्थान के सिरोही में पैदा हुए बच्चे की तस्वीरें और वीडियो शेयर कर सोशल मीडिया में अलग़-अलग़ दावों के साथ शेयर हो रही हैं. बकौल डॉक्टर, बच्चा मरा हुआ ही पैदा हुआ था. इसलिये जन्म लेते ही बच्चे के बोलने और सभी को जागते रहने की बात कहने का दावा ग़लत साबित हो जाता है.

लोकल न्यूज़ चैनल ‘उदयपुर न्यूज़’ और यूट्यूब चैनल जियो न्यूज़ टीवी ने भी इस घटना की वीडियो रिपोर्ट शेयर की हैं. इनका दावा है कि उदयपुर के गोगुन्दा में ये ‘अजीबो-गरीब’ बच्चा पैदा हुआ है.

वायरल हैं ये तस्वीरें और वीडियो

ये तस्वीरें और वीडियो इसी मेसेज के साथ फ़ेसबुक और ट्विटर पर वायरल हैं.

पहले भी एक आंख वाले बच्चे का वीडियो जुलाई 2019 में इज़राइल में दज्जाल पैदा होने के झूठे दावे से वायरल हो रहा था. असम में ‘राक्षस’ पैदा होने के गलत दावे से दुर्लभ जेनेटिक बीमारी से पीड़ित बच्चे का वीडियो नवंबर 2019 में शेयर किया गया था.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.