पक्षी नहीं… विमान नहीं, यह पीयूष गोयल द्वारा ट्रेन की स्पीड बढ़ाकर दिखाया गया वीडियो है

केंद्रीय रेल मंत्री पियूष गोयल ने वंदे भारत एक्सप्रेस का एक वीडियो इस संदेश के साथ पोस्ट किया है — “यह एक चिड़िया है, यह एक प्लेन है। मेक इन इंडिया पहल के तहत बनी देश की सेमी हाई-स्पीड ट्रेन वंदे भारत एक्सप्रेस को बिजली की गति से गुजरते देखिए।” – (अनुवादित) यह वीडियो गोयल के आधिकारिक ट्विटर और फेसबुक अकाउंट्स से पोस्ट किया गया है।

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने भी यह वीडियो रिट्वीट किया।

रिपब्लिक टीवी ने भी पियूष गोयल के ट्वीट पर आधारित एक लेख“देखिए: पियूष गोयल ने वंदे भारत एक्सप्रेस की पक्षी और विमान की तरह एक झलक दी” – (अनुवादित)- शीर्षक से प्रकाशित किया।

पियूष गोयल द्वारा यह वीडियो पोस्ट किए जाने के तुरंत बाद, मंत्री के फेसबुक पेज पर आए कमेंट्स में लिखा था कि पोस्ट किया गया वीडियो असली नहीं है और वास्तव में वीडियो को एडिट कर तेजी से चलाया गया है।

सच क्या है?

हमने पियूष गोयल के वीडियो पोस्ट के कमेंट बॉक्स में फेसबुक यूजर द्वारा दिए गए यूट्यूब लिंक को देखा। यह वीडियो “द रेल मेल” नामक यूट्यूब चैनल पर 20 दिसंबर, 2018 को पोस्ट किया गया था। इस चैनल ‘के बारे में’ (about) अनुभाग में बताया गया था कि इस चैनल पर, ट्रेन उत्साहियों द्वारा वीडियो पोस्ट किए जाते हैं। इस यूट्यूब चैनल का अपना फेसबुक पेज भी है, और जिस फेसबुक यूजर ने मंत्री के सामने विरोध प्रकट किया, वो इस फेसबुक पेज के एडमिन हैं।

पीयूष गोयल द्वारा पोस्ट किया गया वीडियो, नीचे दिए गए वीडियो में 26वें सेकेंड से शुरू होता है।

उपरोक्त वीडियो देखने से यह स्पष्ट हो जाता है कि रेल मंत्री द्वारा पोस्ट किया गया वीडियो, यूट्यूब वीडियो का क्लिप किया हुआ एक हिस्सा है, जिसे बाद में इसकी मूल गति से दोगुने रफ्तार से चला दिया गया। पियूष गोयल के वीडियो और असली वीडियो की साथ-साथ गति संबंधी तुलना नीचे देखी जा सकती है।

यह वीडियो हरियाणा के असावती रेलवे स्टेशन पर बनाया गया था। असली यूट्यूब वीडियो में ट्रेडमार्क का वॉटरमार्क भी है, जो इस वीडियो को अपना बताने वाले फेसबुक यूजर से मिलता है।

पियूष गोयल द्वारा पोस्ट किया गया वीडियो जनवरी के अंत से सोशल मीडिया में प्रसारित होता रहा है। फेसबुक यूजर ने वही वीडियो अपने टाइमलाइन पर 30 जनवरी, 2019 को पोस्ट किया, जिसे नीचे देखा जा सकता है।

 

The Vande Bharat Express (Train-18)… It shows the speed Limit of #ModiSarkar… Kabhi Rukhne Wala Nahi Hai……

Posted by Prashanth Jadhav on Wednesday, 30 January 2019

यह पहली बार नहीं है जब पियूष गोयल ने सोशल मीडिया में भ्रामक जानकारी पोस्ट की है। पहले भी कई अवसरों पर — केंद्र सरकार के विकास के प्रयासों को सकारात्मक रूप में दिखलाने के लिए — उन पर भ्रामक तस्वीरें और सूचनाएं पोस्ट करने के आरोप लगे हैं।

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend