मनमोहन सिंह को अमेरिका ने सबसे ईमानदार नेता घोषित नहीं किया है

“भारत के लिए गर्व की बात। अमेरिका ने व्हाइट हाऊस से जारी एल्बम में 50 ईमानदार नेताओं में भारत के एक मात्र नेता डॉ मनमोहन सिंह पहले स्थान पर हैं। शत शत प्रणाम श्री मनमोहन सिंह जी को।” यह संदेश फेसबुक पर कांग्रेस समर्थकों के बीच वायरल है। यह संदेश एक अलग तरीके से भी लिखा गया है जिसमें बताया गया है कि मनमोहन सिंह 50 सबसे ईमानदार नेताओं में पहले स्थान पर हैं और साथ में यह भी लिखा है कि इस लिस्ट में नरेन्द्र मोदी का नाम नहीं है। क्या यह वास्तव में सच हो सकता है? क्या व्हाइट हाउस दुनिया भर में “ईमानदार” नेताओं की सूची प्रकाशित करता है? यह संदेश मौजूदा सरकार को निशाना बनाकर बनाया गया है। आईये इस दावे का पता लगाते हैं।

manmohan singh

इस संदेश को एक दूसरे तरीके से भी लिखा गया है।

ऊपर के तस्वीर में ‘वायरल इन इंडिया.net’ नाम का निशान है और इसे वायरल इन इंडिया.net नाम के फेसबुक पेज से भी शेयर किया गया है। यह पेज अभिषेक मिश्रा चलाते हैं, जो खुद को ट्विटर पर RTI कार्यकर्ता बताते हैं।

सच क्या है?

इस संदेश के पीछे की कहानी दिसम्बर 2016 की है जब पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपने 14वें व आखिरी बार राष्ट्रपति बने रहने के समय रात्रिभोज की मेजबानी की थी। इस अवसर पर, व्हाइट हाउस के मुख्य फोटोग्राफर ने राष्ट्रपति ओबामा के राष्ट्रपति पद के कार्यकाल में आयोजित कुछ अन्य रात्रिभोजों की झलक साझा की थी।

कई सारे तस्वीरों की झलक में शुरुआत मनमोहन सिंह और उनकी पत्नी गुरुशरन कौर की तस्वीर से हुई थी। यह तस्वीर इसलिए महत्वपूर्ण थी क्योंकि साल 2009 में राष्ट्रपति ओबामा के पद सँभालने के बाद पहली राजकीय यात्रा मनमोहन सिंह ने की थी और उसी अवसर की तस्वीर उस दिन रात्रिभोज में प्रस्तुत एल्बम में पहली तस्वीर के रूप में दिखाई गई थी। इस अवसर पर नरेंद्र मोदी की कोई तस्वीर प्रस्तुत नहीं की गई थी।

वायरल संदेश आधी सच्चाई पर आधारित है। हां, व्हाइट हाउस फोटोग्राफर ने उस अवसर पर दिखाई गई तस्वीरों में मनमोहन सिंह की एक तस्वीर प्रमुख रूप से प्रदर्शित की। हां, नरेंद्र मोदी इन तस्वीरों के संकलन में शामिल नहीं थे। लेकिन यह वायरल संदेश में दावा किये गए विश्व के “ईमानदार” नेताओं का संकलन नहीं हैं। यह तस्वीर ओबामा द्वारा आयोजित रात्रिभोज के झलकों का सिर्फ एक हिस्सा था।

इस वायरल संदेश में उन नकली समाचार पोस्टरों जैसी समानताएं हैं जिन्हें अक्सर बीजेपी समर्थकों द्वारा साझा किया जाता है। उसी तरह की आँखों को अच्छे लगने वाले रंगों का उपयोग, धैर्यपूर्वक एक संदेश पेश करने के लिए शब्दों का चयन। ऐसा लगता है कि कांग्रेस समर्थक भी भाजपा समर्थकों की तरह फर्जी ख़बरों को फ़ैलाने की मनोदशा में शामिल हों गए हैं। यदि यह सच है तो आने वाले दिनों में और ज्यादा नकली खबरों के लिए तैयार रहें।

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend