तमिलनाडू विधानसभा चुनाव 6 अप्रैल से होने हैं. लेकिन इससे चार दिन पहले यानी 2 अप्रैल को द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (DMK) के अध्यक्ष एमके स्टालिन के बेटी और दामाद के घर पर आयकर विभाग का छापा पड़ने के बाद तमिलनाडू का राजनीतिक माहौल गरमा गया है. NDTV की 2 अप्रैल की रिपोर्ट के मुताबिक आयकर विभाग ने स्टालिन की बेटी सेंथमराई और दामाद सब्रीसन के घर पर छापा मारा था. इस रिपोर्ट में आयकर विभाग के सूत्रों का हवाला देते हुए बताया गया है कि आयकर विभाग को चुनाव के लिए नकदी लेन-देन की सूचना मिली थी. DMK नेता ने इसे AIDMK और भाजपा द्वारा सत्ता का ग़लत इस्तेमाल बताया.

इसके बाद कई सोशल मीडिया यूज़र्स ने तमिल कैप्शन लिखते हुए नकदी के ढेर की कुछ तस्वीरें शेयर की और दावा किया कि स्टालिन के दामाद के घर से 300 करोड़ रुपये कैश बरामद हुए हैं. नीचे लगे ट्वीट को आर्टिकल लिखे जाने तक 270 बार रीट्वीट किया जा चुका है. (आर्काइव लिंक)

ऐसे ही दावों के साथ किए गए एक और ट्वीट को आर्टिकल लिखे जाने तक 200 से ज़्यादा बार रीट्वीट किया जा चुका है.

यही नहीं कई दावों में ये भी कहा गया कि इस छापे में 250 किलो सोना, 700 करोड़ रुपये नकदी और 3000 करोड़ रुपये की हेरा-फेरी के दस्तावेज़ मिले हैं.

पुरानी तस्वीर और इसके साथ दावा भी ग़लत

NDTV ने 3 अप्रैल को अपनी रिपोर्ट में बताया कि इस छापे में मात्र 1.36 रुपये नकदी बरामद हुई है. ये जानकारी खुद आयकर विभाग ने एक प्रेस नोट में दी. रिपोर्ट में बताया गया है कि नकदी घर कामों के लिए रखी थी जिसे लौटा दिया गया. हालांकि आयकर विभाग ने अवैध लेन-देन से जुड़े दस्तावेज़ मिलने का दावा किया है. इसके बारे में आगे की जानकारी नहीं दी गयी है.

सन न्यूज़ ने 2 अप्रैल को ही विभाग की पर्ची भी ट्वीट की जिसमें जब्त की गयी नकद 1.36 लाख रुपये बताई गयी है.

 

पत्रकार शब्बीर अहमद ने उस डॉक्यूमेंट की कॉपी शेयर की है जिसमें छापे में जब्त की गयी रकम दिख रही है. साथ ही इसमें रकम वापस किए जाने के बाद सब्रीसन का हस्ताक्षर भी दिख रहा है.

वायरल दावा कि छापे में 250 किलो सोना, 700 करोड़ या 300 करोड़ रुपये नकदी और 3000 करोड़ रुपये की हेरा-फेरी के दस्तावेज़ मिले हैं, ग़लत हैं. हमने देखा कि इन दावों के साथ जो तस्वीरें शेयर की जा रही हैं वो पुरानी हैं.

पुरानी तस्वीरें

पहली तस्वीर: पहली तस्वीर का रिवर्स इमेज सर्च करने पर कई फ़ैक्ट-चेक रिपोर्ट्स मिलतीं हैं. टाइम्स ऑफ़ इंडिया की 3 नवम्बर, 2019 की रिपोर्ट के मुताबिक ये तस्वीर तेलंगाना के खम्मम की एक घटना से जुड़ी है. पुलिस ने 2 नवम्बर को नकली नोट छापने वाले 5 लोगों के एक गिरोह को पकड़ा था और 6 करोड़ नकदी बरामद की गयी थी. वीडियो रिपोर्ट का स्क्रीनशॉट नीचे देख सकते हैं.

दूसरी और तीसरी तस्वीर: दूसरी तस्वीर का रिवर्स इमेज सर्च करने पर पता चलता है ये 2 साल पुराने मामले से जुड़ी है. कार्टन में भरे कैश और बोरियों में भरे कागज़ात की तस्वीर असल में 2 साल पहले लोकसभा चुनाव के समय वेल्लोर के एक गोदाम में मिले थे जो तथाकथित तौर से DMK नेता पूंजोलाई श्रीनिवासन का था. ब्लूमबर्ग क्विंट की इस घटना पर रिपोर्ट में ये तस्वीर देखी जा सकती है जिसमें अभी वायरल हो रही तस्वीर भी साथ में लगी है. ये रिपोर्ट पीटीआई के हवाले से है और इसके मुताबिक जब्त की गयी नकदी DMK कोषाध्यक्ष दुराई मुरुगन की थी. 2019 लोकसभा चुनाव में मुरुगन के बेटे कादिर आनंद वेल्लोर सीट से चुनाव लड़ रहे थे. द न्यूज़ मिनट की इस घटना पर रिपोर्ट में भी ये तस्वीर देख सकते हैं.

चौथी तस्वीर: चौथी तस्वीर वाकई एमके स्टालिन के घर की है. नीचे एमके स्टालिन से जुड़ी टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट का स्क्रीनशॉट देख सकते हैं जिसमें यही घर दिख रहा है.

इन तस्वीरों के अलावा भी नोटों के ढेर की कुछ और तस्वीरें वायरल हैं. चूंकि केवल 1.36 लाख ही जब्त किये गये थे (जिन्हें बाद में लौटा दिया गया), ये तस्वीरें इस हालिया छापे की नहीं हो सकतीं.

हाल ही में ऐसा ही एक और ग़लत दावा वायरल हुआ था कि IT ने छत्तीसगढ़ सीएम की उपसचिव के घर से 100 करोड़ ज़ब्त किये. ऑल्ट न्यूज़ की इस पर फ़ैक्ट-चेक रिपोर्ट यहां पढ़ें.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged:
About the Author

A journalist and a dilettante person who always strives to learn new skills and meeting new people. Either sketching or working.