उद्धव और आदित्य ठाकरे की पुरानी तस्वीरें, सरकार बनने के बाद अजमेर दरगाह जाने के दावे से प्रसारित

ख़्वाजा के दरबार में पोहचे आदित्य ठाकरे । शिवसेना का मुख्य मंत्री बनने की मांगी थी मन्नत जो हुई पूरी।
मेरा ख़्वाजा चाहें उसे नवाज़े ।हिंदुत्व के मुद्दों पे अडग रहने वाली पार्टी को भी अजमेर दरबार मे बुला के जुका के सल्तनत का अमीर बनाया।

उपरोक्त संदेश को सोशल मीडिया में कुछ तस्वीरों के साथ साझा किया जा रहा है, जिसमें शिवसेना नेता उद्धव ठाकरे और आदित्य ठाकरे को चद्दर चढ़ाते हुए देखा जा सकता है।

ख़्वाजा के दरबार में पोहचे आदित्य ठाकरे । शिवसेना का मुख्य मंत्री बनने की मांगी थी मन्नत जो हुई पूरी।
मेरा ख़्वाजा चाहें…

Posted by Janti Ashrafi on Thursday, 28 November 2019

कुछ फेसबुक उपयोगकर्ता ने इस तस्वीर को समान दावे के साथ पोस्ट किया है। दावे के अनुसार ठाकरे परिवार ने महाराष्ट्र में NCP और कांग्रेस के साथ सफलतापूर्वक सरकार बनाने के बाद अजमेर दरगाह पहुंचे।

ये तस्वीरें ट्विटर पर भी साझा की गयी है।

ये तस्वीरें समान संदेश के साथ व्हाट्सएप पर भी प्रसारित की गई हैं।

तथ्य जांच: पुरानी तस्वीरें

ऑल्ट न्यूज़ ने पाया कि प्रसारित की गई तस्वीरें हाल की नहीं है और महाराष्ट्र में शिवसेना-NCP-कांग्रेस की गठबंधन सरकार के बाद अजमेर दौरे को भी नहीं दर्शाती है। तीन तस्वीरें साझा की गई है, आइये बारी-बारी से सभी पर नज़र डालेंगे।

पहली तस्वीर

इस तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने पर, हमें मार्च 2017 का द इंडियन एक्सप्रेस का एक लेख मिला, जिसका शीर्षक है –“ठाकरे परिवार ने अजमेर में चद्दर चढ़ाई।” (अनुवाद)

उपरोक्त तस्वीर मुंबई में ठाकरे परिवार के निवास मातोश्री में खींची गई थी।

दूसरी तस्वीर

ऑल्ट न्यूज़ ने पाया कि उपरोक्त तस्वीर को जून 2019 में आदित्य ठाकरे की अजमेर की मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह पहुँचने के दौरान खींची गई थी। नीचे पोस्ट किया गया वीडियो इस घटना को कवर करने वाले इंडिया न्यूज़ के प्रसारण का है। इस तस्वीर को महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के बाद भी आदित्य ठाकरे द्वारा अजमेर दरगाह जाने के झूठे दावे से प्रसारित किया गया था।

तीसरी तस्वीर

ऑल्ट न्यूज़ ने पाया कि यह तस्वीर 2018 की है। रिवर्स सर्च करने से हमें Hello Mumbai News नामक वेबसाइट का एक लेख मिला, जिसमें समान तस्वीर को साझा किया गया था। यह लेख 16 मार्च, 2018 का है, जिसका शीर्षक है –“शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने अजमेर दरगाह में चद्दर चढ़ाई।” (अनुवाद)

निष्कर्ष के तौर पर सोशल मीडिया में प्रसारित तीन में से एक भी तस्वीर हाल की नहीं है, जिसे महाराष्ट्र में गठबंधन सरकार बनने के बाद लिया गया हो। प्रसारित दो तस्वीरें 2018 की है जबकि आदित्य ठाकरे को पगड़ी पहने दर्शाने वाली तस्वीर इस साल के जून महीने में खींची गई थी।

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend