ममता बनर्जी की 2 तस्वीरों का एक कोलाज सोशल मीडिया पर काफ़ी शेयर किया जा रहा है. कोलाज की पहली तस्वीर में ममता बनर्जी व्हीलचेयर पर बैठी हुई हैं जबकि दूसरी तस्वीर में वो लोगों का अभिवादन करते हुए चल रही हैं. पहली तस्वीर पर 1 मई 2021 की तारीख लिखी है जबकि दूसरी तस्वीर 2 मई 2021 की बताई गई है. तस्वीरों के ज़रिए ममता बनर्जी पर फ़र्ज़ी रूप से चोटिल होने का आरोप लगाया गया है. ये तस्वीर पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव परिणाम के बाद शेयर की जा रही है. विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी ने 213 सीटें हासिल कर राज्य में फिर से अपनी सरकार बना ली है. चुनाव परिणाम जारी होने के बाद राज्य के कई हिस्सों में भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प देखने को मिली.

ट्विटर हैन्डल ‘@Sootradhar’ ने ये तस्वीर ट्वीट करते हुए लिखा, “पश्चिम बंगाल, भारत में दुनिया की सबसे अच्छी हेल्थ केयर सिस्टम है”. आर्टिकल लिखे जाने तक इस ट्वीट को 3 हज़ार से ज़्यादा बार रीट्वीट और 12,500 बार लाइक किया जा चुका है. (आर्काइव लिंक)

ट्विटर और फ़ेसबुक पर ये कोलाज वायरल है.

ऑल्ट न्यूज़ की ऑफ़िशियल मोबाइल ऐप (Android, iOS) और व्हाट्सऐप नंबर (76000 11160) पर इस कोलाज की सच्चाई जानने के लिए कुछ रीक्वेस्ट भी आई हैं.

This slideshow requires JavaScript.

फ़ैक्ट-चेक

इस आर्टिकल में हम इन दोनों तस्वीरों की हकीकत आपको बताएंगे.

पहली तस्वीर

ममता बनर्जी की व्हीलचेयर वाली तस्वीर 1 मई 2021 की नहीं बल्कि मार्च 2021 की है. 14 मार्च 2021 के द वीक के आर्टिकल में ये तस्वीर पब्लिश की गई थी. दरअसल, 10 मार्च को पश्चिम बंगाल के नंदीग्राम में चुनाव प्रचार के दौरान ममता बनर्जी पर कथित हमला हुआ था. इसमें उनके एक पैर में चोट लग गई थी. 12 मार्च को ममता बनर्जी को अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया था. इसके बाद, 14 मार्च को ममता बनर्जी नंदीग्राम दिवस के मौके पर जुलूस में शामिल हुई थीं. ये उनकी घायल होने के बाद पहली सार्वजनिक यात्रा थी. 14 मार्च 2007 को नंदीग्राम में पुलिस गोलीबारी में 14 लोग मारे गए थे. उन्हीं की याद में ये कार्यक्रम आयोजित किया गया था. द वीक के आर्टिकल में इस तस्वीर का श्रेय फोटोग्राफ़र सलिल बेरा को दिया गया है.

दूसरी तस्वीर

रिवर्स इमेज सर्च से हमें मालूम हुआ कि ये तस्वीर साल 2019 की है. 28 नवंबर 2019 के टाइम्स नाउ हिन्दी के आर्टिकल में ये तस्वीर शेयर की गई थी. तस्वीर का श्रेय न्यूज़ एजेंसी PTI को दिया गया है. आर्टिकल के मुताबिक, साल 2019 में पश्चिम बंगाल की 3 विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव हुए थे. इस उपचुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने सभी 3 सीटों पर जीत हासिल की थी.

इसके अलावा, ममता बनर्जी ने 6 मई 2021 को पश्चिम बंगाल के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी. इस शपथग्रहण समारोह में वो बिना किसी सहारे चलते हुए दिख रही हैं.

यानी, साल 2019 की तस्वीर को मार्च 2021 की चोटिल ममता बनर्जी की तस्वीर के साथ रखकर ये झूठा दावा किया गया कि ममता बनर्जी चोटिल होने का ढोंग कर रही हैं. पहले भी, मार्च 2021 में ममता बनर्जी की तस्वीरें एडिट कर उनके चोटिल होने को नाटक बताया गया था.


West Bengal Violence Fact-Check: 2018 की आसनसोल में भड़की हिंसा की तस्वीर नतीजों के बाद की बतायी :

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.