नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के ख़िलाफ़ दिल्ली के शाहीन बाग़ में भी पिछले कई हफ़्तों से प्रदर्शन चल रहा है. शाहीन बाग़ का ये प्रदर्शन इसलिए भी चर्चा में है क्योंकि इसमें ज़्यादातर महिलाएं शामिल हुई हैं. इसी दौरान एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हुई. कूड़े में पड़े हुए सैकड़ों कॉन्डोम की एक तस्वीर. कहा जाने लगा कि ये शाहीन बाग़ की है.

तस्वीर को ज़्यादातर इस मेसेज के साथ शेयर किया जा रहा है – “साक्ष्य चाहिए तो कॉमेन्ट करे। प्रमाण मै भेजुगा, नगर पालिका कर्मचारियों को सफाई करते समय शाहिन बाग के पीछे वाले नाले में ये दृश्य देखने को मिला है।” हिन्दू समाज पार्टी से खुद को जुड़ा हुआ बताने वाले प्रभु सागर नामक एक फ़ेसबुक यूज़र ने इसी मेसेज के साथ इस तस्वीर को पोस्ट किया है.

फैक्ट हंट नामक वेबसाइट के को-फाउंडर @pokershash ने भी यह तस्वीर ट्वीट करते हुए लिखा, “Someone send me this pic of back stage of Shaheen Bagh and told Kudrati Khana yaha se aata. (अनुवाद – किसी ने मुझे शाहीन बाग़ के स्टेज के पीछे की तस्वीर शेयर करके कहा कि कुदरती खाना यहां से आता है.)” (आर्काइव किया गया पोस्ट)

इसी दावे के साथ एक और यूज़र ने ये तस्वीर पोस्ट करते हुए लिखा है -“शाहीन बाग से बरामद प्रोटेस्ट का असला.” ये तस्वीर फ़ेसबुक और ट्विटर पर इसी दावे के साथ शेयर की गई है.

पड़ताल

हालांकि, वायरल तस्वीर को गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च करने से हमें पहले तो सर्च रिज़ल्ट में कोई ठोस परिणाम नहीं मिला. लेकिन सर्च रिज़ल्ट में दिखने वाली पहली तस्वीर को एक बार फिर गूगल पर रिवर्स सर्च करने से हमें वियतनाम की एक समाचार वेबसाइट baomoi.com का लिंक मिला. BAOMOI ने doisongphapluat नामक एक वेबसाइट के आर्टिकल को 13 दिसंबर, 2016 को दोबारा प्रकाशित किया था. दरअसल इस आर्टिकल में पुरुष छात्रावास और छात्रों के जीवन से सम्बंधित जानकारी प्रकाशित की गई थी. इसमें वायरल हो रही तस्वीर को भी प्रकाशित किया गया था जिसे इस कैप्शन के साथ शेयर किया गया है – “In the garbage bags of these male secret students?”

इस तरह ये साबित हो जाता है कि कूड़े में पड़े सैकड़ों कॉन्डोम की तस्वीर 2016 के वियतनाम के एक आर्टिकल में प्रकाशित हुई थी. इस तस्वीर को सोशल मीडिया पर शाहीन बाग़ में चल रहे CAA विरोध प्रदर्शन पर निशाना साधने के लिए झूठे दावे से शेयर किया गया है. इससे पहले भी कई बार शाहीन बाग़ में प्रदर्शन कर रही महिलाओं को टार्गेट करते हुए ग़लत दावे किये गए हैं. भोपाल में महिलाओं की लड़ाई के एक पुराने वीडियो को शाहीन बाग़ का बताकर शेयर किया गया था. भाजपा आईटी सेल के मुखिया अमित मालवीय ने शाहीन बाग़ में प्रदर्शन कर रही औरतों पर पैसे लेने का झूठा आरोप लगाते हुए एक ग़लत वीडियो शेयर किया था जिसकी पड़ताल ऑल्ट न्यूज़ और न्यूज़ लांड्री ने मिलकर की थी.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.