एक वीडियो सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है. इसमें राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा दिखते हैं जो कि एक गाड़ी में बैठे हुए हैं. इस वीडियो को शेयर करते हुए यूज़र्स दावा कर रहे है कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने कोरोना वायरस के चलते जारी किये गए लॉकडाउन को तोड़ा है. बता दें कि भारत में कोरोना वायरस के चलते 24 मार्च को 21 दिनों का लॉकडाउन जारी किया गया था. वीडियो में कुछ पुलिसकर्मी उनसे सवाल-जवाब करते हैं. एक पुलिसकर्मी ये कहते हैं, ‘धारा 144 लागू है तो आप ग्रुप में नहीं जा सकते.’ इसका जवाब देते हुए राहुल गांधी कहते हैं, ‘हम ग्रुप में नहीं जा रहे है सिर्फ़ हम तीन ही जायेंगे.’

ट्विटर यूज़र निधि शर्मा ने ये वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा, “BREAKING: This is Rahul Gandhi @RahulGandhi & Priyanka Vadra @priyankagandhi breaking Lock-down Regulations saying they need to visit friends.Their mom has been lecturing @narendramodi on media but this is what they do in real life. @ANI @TimesNow #COVIDIOTS #COVID2019.” (अनुवाद – ब्रेकिंग: ये राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा है जो कि लॉकडाउन को तोड़ रहे है. उनका कहना है कि उन्हें अपने दोस्तों से मिलना हैं. उनकी माँ मीडिया में नरेंद्र मोदी को लेक्चर दे रही है मगर असल ज़िंदगी में वो ऐसा करते हैं. @ANI @TimesNow #COVIDIOTS #COVID2019.) शर्मा की इस ट्वीट को डिलीट किये जाने से पहले 2,100 बार देखा जा चुका है. (ट्वीट का आर्काइव लिंक)

फ़ेसबुक पेज ‘न्यूज़ व्यूज़’ ने भी ये वीडियो इसी दावे से शेयर किया है.

 

This is Rahul Gandhi & Priyanka Gandhi breaking Lock-down regulations saying they need to visit friends RG asking police to produce order of Section 144 in use.

Posted by Newz viewz on Saturday, 4 April 2020

वायरल है ये वीडियो

इसी दावे के साथ ये वीडियो फ़ेसबुक और ट्विटर पर वायरल है.

इस वीडियो की जांच करने के लिए ऑल्ट न्यूज़ के ऑफ़िशियल ऐप पर भी कुछ रीक्वेस्ट मिली हैं.

फ़ैक्ट-चेक

गूगल पर की-वर्ड्स “rahul gandhi priyanka gandhi stopped in car” से सर्च करने पर पाया कि वायरल हो रहा वीडियो 24 दिसम्बर 2019 को कई मीडिया संगठनों ने शेयर किया था. ‘NDTV इंडिया’ की रिपोर्ट के मुताबिक, नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हुए प्रदर्शनों में मारे गए लोगों के परिजनों से मिलने के लिए कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी मेरठ जा रहे थे. हालांकि पुलिस ने उन्हें शहर के बाहर ही रोक लिया. कांग्रेस नेताओं ने ये भी कहा कि सिर्फ़ 3 लोग ही मिलने के लिए जाएंगे लेकीन यूपी पुलिस नहीं मानी. इसके बाद राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वापस दिल्ली के लिए रवाना हो गए.

ndtv

इसके अलावा ‘आज तक’, ‘इंडिया टुडे’ समेत कई और मीडिया संगठनों ने भी इस घटना को रिपोर्ट किया था.

मेरठ में CAA के खिलाफ़ हुए विरोध प्रदर्शन के दौरान मारे गए लोगों के परिवारवालों से राहुल गांधी और प्रियंका गांधी मिलने पहुंचे थे. इस 3 महीने पुरानी घटना का वीडियो 24 मार्च को जारी किये गए लॉकडाउन तोड़ने के झूठे दावे से शेयर किया गया.

नोट : भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 3,600 के पार जा पहुंची है. इसकी वजह से सरकार ने बुनियादी ज़रुरतों से जुड़ी चीज़ों को छोड़कर बाकी सभी चीज़ों पर पाबंदी लगा दी है. दुनिया भर में 11 लाख से ज़्यादा कन्फ़र्म केस सामने आये हैं और 58 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. लोगों में डर का माहौल बना हुआ है और इसी वजह से वो बिना जांच-पड़ताल किये किसी भी ख़बर पर विश्वास कर रहे हैं. लोग ग़लत जानकारियों का शिकार बन रहे हैं जो कि उनके लिए घातक भी साबित हो सकता है. ऐसे कई वीडियो या तस्वीरें वायरल हो रही हैं जो कि घरेलू नुस्खों और बेबुनियाद जानकारियों को बढ़ावा दे रही हैं. आपके इरादे ठीक हो सकते हैं लेकिन ऐसी भयावह स्थिति में यूं ग़लत जानकारियां जानलेवा हो सकती हैं. हम पाठकों से ये अपील करते हैं कि वो बिना जांचे-परखे और वेरीफ़ाई किये किसी भी मेसेज पर विश्वास न करें और उन्हें किसी भी जगह फ़ॉरवर्ड भी न करें.

 

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.