सोशल मीडिया फ़्रांस का बताकर एक वीडियो वायरल हो रहा है. वीडियो के बैकग्राउंड में अज़ान सुनाई दे रहा है. साथ ही एक मस्जिद के पास काफी बड़ी संख्यां में लोगों की भीड़ को सड़क पर नमाज़ अदा करते हुए देखा जा सकता है.

वीडियो शेयर करते हुए एक यूज़र ने लिखा, “25 साल पहले, फ्रांस ‘लिबरल मानवता’ का पाठ रट रहा था.. अब उसे ‘सबक’ मिल रहा है.. फ्रांस के नागरिकों के पास चलने के लिए जगह नहीं है..”

वीडियो को फ़ेसबुक पर भी शेयर किया गया है.

फ़ैक्ट-चेक

हमने वायरल वीडियो के एक फ़्रेम को यांडेक्स पर रिवर्स इमेज सर्च किया. सर्च परिणाम में 17 जुलाई, 2015 का एक ट्वीट मिला. इस ट्वीट में वायरल वीडियो में दिख रहे सोने और हरे रंग की मीनारों वाली यही मस्जिद दिख रही है. इस ट्वीट में रूसी न्यूज़ एजेंसी की एक रिपोर्ट का लिंक है जिसमें 2015 में मास्को में मुसलमानों के ईद-उल-फितर मनाए जाने की ख़बर है.

नीचे वायरल वीडियो के एक फ़्रेम और न्यूज़ रिपोर्ट की तस्वीर में समानता देखी जा सकती है. मस्जिद के पीछे एक जैसी बिल्डिंग भी मौजूद है.

मस्जिद की तस्वीर को क्रॉप करके गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च करने पर, हमें मालूम चला कि वायरल वीडियो में दिख रही मस्जिद रूस के पेरुलोक वायपोलज़ोव 7, मॉस्को, 129090 में स्थित मॉस्को कैथेड्रल मस्जिद है.

इसके अलावा, हमने गूगल स्ट्रीट व्यू का इस्तेमाल करके मॉस्को कैथेड्रल मस्जिद देखा जहां हमें मस्जिद के पीछे वही बिल्डिंग मिली.

इस तरह ये साबित होता है कि वायरल वीडियो में दिख रही मस्जिद फ्रांस में नहीं बल्कि रूस में स्थित है.

हमें कई तस्वीरें और वीडियो भी मिले, जिनमें मस्जिद के आसपास के इलाके में अलग-अलग समय पर भीड़ को ईद की नमाज़ अदा करते हुए लोगों को देखा जा सकता है. इन विज़ुअल्स को देखने से पता चलता है कि वहां लगातार नमाज़ पढ़ी जाती होगी. 5 जून, 2019 की ये वीडियो रिपोर्ट में भी लोगों को नमाज़ पढ़ते दिखाया गया है. 8 सेकेंड /54 सेकेंड पर इस वीडियो में मस्जिद के पीछे भूरे रंग की बिल्डिंग को भी देखा जा सकता है.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.

About the Author

Nilofar Absar is a lawyer by training and a storyteller by nature who takes a keen interest in the lives of people belonging to South Asian diasporic communities.