भारत में कोरोना वायरस के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं और 6 मई, 2021 को भी 4 लाख से ज़्यादा नए मामले दर्ज किये गये. ऑक्सीजन सिलिंडर, ICU बेड्स और एम्बुलेंस जैसी तमाम सुविधाओं की कमी के बीच सैकड़ों लोग दम तोड़ रहे हैं.

इसी पर निराशा व्यक्त करते हुए फ़िल्मकार अविनाश दास ने एक तस्वीर शेयर की जिसमें एक आदमी एक शव को रिक्शा पर ले जा रहा है. साथ ही उन्होंने बिना नाम लिए पीएम मोदी की आलोचना भी की.

ये तस्वीर इस समय ट्विटर और फ़ेसबुक पर दर्जनों लोग शेयर कर रहे हैं.

कार्टूनिस्ट मंजुल (@MANJULtoons) ने भी ये तस्वीर शेयर की.

2017 की तस्वीर

तस्वीर का सर्च इंजन यांडेक्स पर रिवर्स इमेज सर्च करने पर ये हमें पत्रिका के सितम्बर 2017 के एक आर्टिकल में मिली. इस रिपोर्ट के मुताबिक, उत्तर प्रदेश के गुरदहा में शादी के कुछ समय बाद ही एक महिला ने आत्महत्या कर ली थी. पुलिस को इसकी जानकारी दे दी गयी थी और शव को ज़िला अस्पताल में सील करके रखा गया था. अगले दिन परिवार ने शव को पोस्टमार्टम के लिए ले जाने के लिए एम्बुलेंस का घंटों इंतज़ार किया. लेकिन जब कोई एम्बुलेंस नहीं आयी तो परिजनों ने शव को रिक्शा से ही ले जाने का फ़ैसला लिया.

पत्रिका की रिपोर्ट में एक वीडियो भी है जिसमें परिजन का बयान है. CMN न्यूज़ नाम के एक स्थानीय आउटलेट ने भी इसके बारे में रिपोर्ट किया था.

 

हालांकि ये तस्वीर कोविड-19 के कारण वर्तमान दुर्दशा की नहीं है. लेकिन पिछले कुछ हफ़्तों में इससे मिलते-जुलते कई दृश्य देखे गये हैं जहां परिजनों को मरीज़ को हॉस्पिटल तक ले जाने में जद्दोजहद करनी पड़ी है.

This slideshow requires JavaScript.


पश्चिम बंगाल हिंसा: BJP ने मारे गए कार्यकर्ता के नाम पर लगाई इंडिया टुडे के पत्रकार की तस्वीर

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
About the Author

Kalim is a journalist with a keen interest in tech and in misino/disinfo beat