सोशल मीडिया पर 10 सेकंड का एक वीडियो वायरल है जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक मंच से भाषण दे रहे हैं. वीडियो में प्रधानमंत्री मोदी कह रहे हैं, “जब मैं छोटी चोरी करता था, उस दिन अगर मेरी माँ ने रोका होता, तो मैं इतना बड़ा लुटेरा न बनता”. इस वीडियो को बिना किसी संदर्भ के शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि प्रधानमंत्री मोदी ने ये बात अपने बारे में कही थी.

पत्रकार कविश अज़ीज़ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 10 सेकेंड का वीडियो ट्वीट किया. (आर्काइव लिंक)

पत्रकार दिनेश कुमार ने भी प्रधानमंत्री मोदी का ये वीडियो ट्वीट किया है. (आर्काइव लिंक)

मोहम्मद जावेद अख्तर नाम के यूज़र ने भी फ़ेसबुक पर 10 सेकेंड का वीडियो शेयर किया. इस वीडियो को आर्टिकल लिखे जाने तक 6 लाख से ज़्यादा व्यूज़ मिले हैं.

ये वीडियो फ़ेसबुक और ट्विटर पर जमकर शेयर किया जा रहा है.

फ़ैक्ट-चेक

ऑल्ट न्यूज़ ने वायरल वीडियो के फ़्रेम को गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च किया. हमें सर्च रिज़ल्ट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के यूट्यूब चैनल का वीडियो मिला. 10 अप्रैल 2021 को चैनल ने पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी में प्रधानमंत्री मोदी द्वारा दिए गए भाषण का वीडियो अपलोड किया था. वायरल वीडियो इसी भाषण के वीडियो का हिस्सा है. इस पूरे वीडियो में वायरल वीडियो वाला हिस्सा 40 मिनट 38 सेकंड के बाद से देखा जा सकता है.

यूट्यूब वीडियो में 39 मिनट 39 सेकंड के बाद से वायरल वीडियो में की गई बात का संदर्भ शुरू होता है. यहां प्रधानमंत्री मोदी कहते हैं “हम छोटे थे तो एक कथा सुनी. उस कथा में एक बहुत बड़ा डाकू, लुटेरा, उसको फांसी की सज़ा हुई. जब फांसी की सज़ा हुई तो उसको पूछा गया कि उसकी अंतिम इच्छा क्या है? तो उसने कहा मुझे मेरी माँ को मिलना है. तो फिर सरकार ने व्यवस्था की. कि फांसी पर जाने से पहले उसको उसकी माँ से मिलवा दिया जाए. जब वो अपनी माँ को मिला, तो मां को झपट कर के उसने माँ की नाक को काट लिया. अपनी माँ की नाक को काट लिया, फांसी पे जाने से पहले काट लिया. तो लोगों ने पूछा कि भई तुमने अपनी माँ पर ये क्यूँ किया? तो उसने कहा जब मैं छोटी चोरी करता था, उस दिन अगर मेरी माँ ने रोका होता, तो मैं इतना बड़ा लुटेरा न बनता. मुझे फांसी पर जाने की नौबत नहीं आती.”

यानी, असल में वायरल वीडियो में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक कहानी के संदर्भ में ये बात कर रहे थे. लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण का क्लिप्ड वीडियो कई पत्रकारों और सोशल मीडिया यूज़र्स ने बिना संदर्भ के शेयर किया.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.

About the Author

Abhishek is a journalist at Alt News.