कोरोना वायरस : बेल्जियम में एक लड़के ने मुंह में उंगलियां डाल कर खम्भे पर लगाईं, वीडियो इंडिया में वायरल

सोशल मीडिया पर ज़्यादा से ज़्यादा शेयर करने की रिक्वेस्ट के साथ एक वीडियो वायरल हो रहा है. वीडियो में एक व्यक्ति ट्रेन में अपना मास्क हटा कर उंगलियों को होंठों पर घुमाता है और फिर उन्हे ट्रेन के खम्भे पर घिसता है. वीडियो को इस मेसेज के साथ शेयर किया जा रहा है – “इस विडियो को देखें और इसे जितना हो सके उतना फॉरवर्ड करें….अगर आप यू आज चुप रहते हैं तो हमें नुकसान होगा…क्योंकि 6 महीने के बाद इसे आगे बढ़ाने का कोई फायदा नहीं होगा…उँगलियाँ घुमाएँ और इसे आगे बढ़ाएँ अभी.”

विक्रम तिवारी जौनपुर नाम के एक फ़ेसबुक यूज़र ने ये वीडियो पोस्ट किया है. इस पोस्ट को आर्टिकल लिखे जाने तक 1,300 बार देखा जा चुका है. (आर्काइव किया हुआ पोस्ट)

ये कारण है जिस के लिये सरकार पबलिक प्लैस पर जाने से मना करती है इस विडियो को देखें और इसे जितना हो सके उतना फॉरवर्ड करें …. अगर आप यू आज चुप रहते हैं तो हमें नुकसान होगा … क्योंकि एक महीने के बाद इसे आगे बढ़ाने का कोई फायदा नहीं होगा …

Posted by Vikram Tiwari Jaunpur on Monday, 23 March 2020

ट्विटर पर ‘@Surya_again’ ने ये वीडियो शेयर करते हुए इसे एक साज़िश का हिस्सा बताया है. उन्होंने अपनी पोस्ट में PMO इंडिया को भी टैग किया है. 

फ़ैक्ट-चेक

ऑल्ट न्यूज़ ने पाया कि इस वीडियो का भारत से कोई लेना-देना नहीं है. गूगल पर की-वर्ड्स ‘train passenger licking his finger on pole’ से सर्च करने पर मालूम हुआ कि ये घटना बेल्जियम की है. 11 मार्च 2020 की ‘न्यू यॉर्क पोस्ट’ की रिपोर्ट के मुताबिक़, बेल्जियम में एक यात्री ने नशे की हालत में ऐसा किया था. रिपोर्ट में बताया गया है कि इस व्यक्ति को गिरफ़्तार कर लिया गया है और ट्रेन को क्लीनिंग के लिए भेज दिया गया है.

इसके अलावा, यूके के अख़बार ‘द सन’ ने भी इस घटना के बारे में रिपोर्ट किया है और इस व्यक्ति की गिरफ़्तारी की खबर दी है.

इस तरह ये बात साफ़ हो जाती है कि मेट्रो ट्रेन में उंगलियों को मुंह में डालने के बाद उसे खम्भे से पोंछने वाला व्यक्ति भारत का नहीं बल्कि बेल्जियम का था. उसकी इस करतूत के बाद बेल्जियम पुलिस ने उसे गिरफ़्तार भी कर लिया है.

वायरल है वीडियो

ये वीडियो फ़ेसबुक और ट्विटर पर काफ़ी ज़्यादा वायरल है.

ऑल्ट न्यूज़ के ऑफ़िशियल ऐप पर भी इस वीडियो की सच्चाई जानने के लिए कुछ रीक्वेस्ट मिली हैं.

कोरोना वायरस का संक्रमण पूरी दुनिया में एक गंभीर बीमारी के तौर पर लगातार बढ़ता जा रहा है. अभी तक दुनिया भर में करीब 3 लाख कोरोना के कन्फ़र्म केस दर्ज़ हूए हैं. इस बीमारी के चलते तक़रीबन 15,000 लोगों की मौत हो चुकी है. कई लोग कोरोना वायरस से जुड़ी हुई भ्रामक सूचनाओं के झांसे में आ रहे हैं. मेसेजिंग ऐप और सोशल मीडिया में फैलाई गई गलत सूचनाओं के कारण किसी व्यक्ति की जान भी जा सकती है. ऑल्ट न्यूज़ लगातार ऐसी गलत सूचनाओं से लड़ रहा है. ऐसे कई दावों पर की गई ऑल्ट न्यूज़ की जांच को आप इस लिंक पर क्लिक कर पढ़ सकते है. विज्ञान से जुड़ी हुई और भी कई भ्रामक जानकारियां और दावे शेयर हो रहे हैं जिनकी पड़ताल ऑल्ट न्यूज़ की साइंस टीम ने की है. पाठकों से हमारा अनुरोध है कि वे किसी भी संदेह से भरी जानकारी पर आंख मूंद कर यकीन न करें.

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend