इंडिया टीवी ने 28 अक्टूबर, 2020 को ये बताया कि पाकिस्तान की संसद में ‘मोदी-मोदी’ के नारे लगे. इंडिया टीवी के एडिटर इन चीफ़ रजत शर्मा ने कहा, “आज मैं सबसे पहले आपको पाकिस्तान के पार्लियामेंट की कुछ तस्वीरें दिखाना चाहता हूं. और पाकिस्तान के पार्लियामेंट में जो कुछ हुआ, वो सुनाना चाहता हूं. आप भी हैरान हो जायेंगे. वहां नरेन्द्र मोदी को लेकर जो नारे लगाए गए, उन्हें सुनकर मैं भी एक बार हैरत में पड़ गया था. पहले तो मुझे लगा ऐसा कैसे हो सकता है? पाकिस्तान का पार्लियामेंट और मोदी के नाम के नारे, ये कैसे हो सकता है? कौन लगाएगा, और क्यूं लगाएगा? तो मैंने पाकिस्तान की पार्लियामेंट में इस कार्यवाही के वीडियो को कई बार देखा और फिर पाकिस्तान में मौजूद कई लोगों से इसे कन्फ़र्म किया. और ये हकीकत सामने आई कि पाकिस्तान की पार्लियामेंट में नरेन्द्र मोदी को कई बार याद किया गया. उनके नाम पर कई बार नारे लगे… पाकिस्तान की पार्लियामेंट में सुनाई दिया,’जो मोदी का यार है वो पाकिस्तान का गद्दार है.”

इंडिया टीवी पर वीडियो चलाते समय चैनल पर ये टैगलाइन्स चलायी गयीं –
1. ‘पाकिस्तान की संसद में मोदी नाम का खौफ़ चल रहा है’
2. ‘पाकिस्तान की संसद में गजब… मोदी-मोदी नाम की गूंज’
3. ‘पाकिस्तान मोदी से डरता है, मोदी मोदी करता है’
4. ‘मोदी के नाम पर संसद में इमरान को किसने चिढ़ाया?’

This slideshow requires JavaScript.

न्यूज़ नेशन चैनल के कंसल्टिंग एडिटर दीपक चौरसिया ने इंडिया टीवी के वीडियो का कुछ हिस्सा ट्वीट करते हुए लिखा, “लो भाई पाकिस्तान की संसद में लगे मोदी-मोदी के नारे। अभी तो यह झांकी है लाहौर कराची बाक़ी है.” (आर्काइव किया हुआ लिंक)

भाजपा के कई बड़े नेताओं ने ये वीडियो शेयर करते हुए यही दावा किया कि पाकिस्तान की संसद में मोदी-मोदी के नारे लगे. ऐसा दावा करने वालों में डॉ हर्षवर्धन सिंह, अर्जुन सिंह, सोभा करान्दजले, अनिल शर्मा, वरुण पूरी, रविंदर गुप्ता, संगीता कुमारी सिंह, इंदु तिवारी, और तजिंदर पाल सिंह बग्गा प्रमुख नाम हैं. इसके अलावा जय पांडा के ऑफ़िस के ट्विटर हैंडल ने भी इंडिया टीवी का वीडियो रीट्वीट किया और यही दावा किया.

टाइम्स नाउ ने भी ऐसा ही एक ट्वीट किया था कि पाकिस्तान की संसद में मोदी-मोदी के नारे लगे साथ ही चैनल ने डिस्क्लेमर में ये भी लिखा कि ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है. बाद में उन्होंने ये ट्वीट डिलीट कर दिया लेकिन इसका आर्काइव लिंक यहां देखा जा सकता है.

इसके अलावा TV9 भारतवर्ष और ऑप इंडिया ने भी यही दावा किया.

फ़ैक्ट-चेक

हमने कुछ की-वर्ड्स ‘National Assembly Session Pakistan’ सर्च से पाकिस्तान की राष्ट्रीय सभा में भाषण के कुछ वीडियोज़ देखे. हमें ये हिस्सा पाकिस्तान के ‘पब्लिक टीवी’ नाम के चैनल पर 1 घंटे, 34 मिनट के वीडियो में मिला. इंडिया टीवी ने जो वीडियो चलाया है वो असल में 26 अक्टूबर को पाकिस्तान की नेशनल असेंबली में हुई बहस का है. यहां इंडिया टीवी ने असल घटनाक्रम को उल्टे तरीके से दिखाया. यानी, पाकिस्तान की संसद में जो बात पहले कही गयी, इंडिया टीवी ने उसे बाद में दिखाया और जो बाद में हुआ उसे पहले. और इसके साथ दावा किया कि पाकिस्तान की संसद में मोदी-मोदी के नारे लगाए जा रहे हैं. ये दावा पूरी तरह से ग़लत है.

इंडिया टीवी ने पाकिस्तान की संसद में कही गयी जो 2 मुख्य बातें/नारे दिखायीं वो ये थीं –

  1. ‘मोदी का जो यार है, पाकिस्तान का गद्दार है…’
  2.  ‘मोदी-मोदी’ के नारे

चैनल ने ये दिखाने की कोशिश की कि पाकिस्तान की संसद में एक खेमे ने मोदी के समर्थकों को पाकिस्तान का गद्दार बताया लेकिन इसके बावजूद, थोड़ी ही देर में वहां ‘मोदी-मोदी’ के नारे लगने लगे.

असलियत ये है कि पाकिस्तान की संसद में जो बहस चल रही थी उसमें मोदी-मोदी के कथित नारे (जो असल में लगे ही नहीं, वहां ‘वोटिंग वोटिंग’ के नारे लग रहे थे) पहले बोले गए और फिर ‘मोदी का जो यार है…’ वाली बात कही गयी.

यूट्यूब पर ‘पब्लिक टीवी’ नाम के चैनल पर मिले वीडियो में ये साफ़ होता है कि ‘मोदी का जो यार है, पाकिस्तान का गद्दार है…’ वीडियो में 22 मिनट से सुना जा सकता है. और जिस मौके पर इंडिया टीवी को ‘मोदी-मोदी’ के नारे सुनाई दे रहे हैं वो असल में ‘वोटिंग-वोटिंग’ के नारे थे जो इस वीडियो में 13 मिनट 26 सेकंड पर सुने जा सकते हैं.

दरअसल, पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी संसद में ईशनिंदा के ख़िलाफ़ एक प्रस्ताव पारित करना चाहते थे लेकिन विपक्ष के कुछ सदस्यों ने इसी वक्त ‘वोटिंग-वोटिंग’ के नारे लगाने शुरू कर दिए. वीडियो में 13 मिनट, 26 सेकंड पर सदन के स्पीकर जैसे ही शाह महमूद कुरैशी को बोलने के लिए आमंत्रित करते हैं ‘वोटिंग-वोटिंग’ के नारे लगने लगते हैं. इन्हीं नारों को इंडिया टीवी ‘मोदी-मोदी’ बताकर चला रहा था. इंडिया टीवी के बाद बाकी कई चैनल्स ने भी यही दावा किया. वीडियो में कुछ ही वक़्त में वोटिंग की बात और भी स्पष्ट हो जाती है क्यूंकि इसके तुरंत बाद स्पीकर कहते हैं, “वोटिंग… सब कुछ होगा… सब कुछ होगा. सबर रखें आप…” इसके बाद शाह महमूद भी 13 मिनट 45 सेकंड पर कहते हैं, “वोटिंग ऐसे थोड़ी ही होती है.”

इस वीडियो में 14 मिनट 35 सेकंड पर शाह महमूद कहते हैं, “ये इतना संजीदा मसला है. हुज़ूर की शान में गुस्ताख़ी हुई है. गुस्ताखाना ख़ाके पेश किये गए हैं… इसपे पूरी दुनिया में… पूरी उम्मा में इज़्तिराब की कैफ़ियत है और आज इतना गैर संजीदा रवैया इस हसास मसले पे अपोज़ीसन का देख कर मुझे अफ़सोस हुआ… मुझे अफ़सोस हुआ कि ये एक ऐसा मुकद्दस मसले पर भी सियासत खेलना चाह रहे हैं… फ़्रांस में जो गुस्ताखी की गयी वो काबिले-कबूल नहीं है. उससे पूरी मुस्लिम उम्मा के जज़्बात मज़रू हुए हैं और ये इस्लामोफ़ोबिया का जो एक ट्रेंड है, ये एक राइज़िंग ट्रेंड है. इससे हमें तश्वीश है.”

इसके बाद 17 मिनट 50 सेकंड पर विदेश मंत्री गुस्से में कहते हैं, पाकिस्तान के गद्दारों को मुत्तलाजा कौन बना रहा है? हिंदुस्तान की बोलियां कौन बोल रहा है? पाकिस्तान के वफ़ादार को नुकसान कौन पहुंचा रहा है? आज जनाबे स्पीकर बलूचिस्तान में खड़े होकर इनके प्लेटफ़ॉर्म से बलूचिस्तान की आज़ादी के नारे लगे. शर्म आनी चाहिए तुम्हें. तुम पाकिस्तान की बात करते हो. आज मुझे लगता है और मुझे कहने दीजिये नरेन्द्र मोदी की रूह इसमें मुन्तक़िल हो गयी है.”

पाकिस्तान के विदेश मंत्री के इतना कहते ही “मोदी का जो यार है, गद्दार है… गद्दार है” और “बिकने को जो तैयार है… गद्दार है… गद्दार है” के नारे बैकग्राउंड में सुनने को मिलते हैं. इस पूरे वीडियो में कहीं भी मोदी-मोदी के नारे नहीं सुनने को मिले.

इस तरह, ये स्पष्ट तौर पर कहा जा सकता है कि इंडिया टीवी, टाइम्स नाउ सहित भाजपा के कई दिग्गज नेताओं ने ये ग़लत दावा किया कि पाकिस्तान की संसद में ‘मोदी-मोदी’ के नारे लगे. असल में ये ‘वोटिंग-वोटिंग’ के नारे थे.

 

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged:
About the Author

Priyanka Jha specialises in monitoring and researching mis/disinformation at Alt News. She also manages the Alt News Hindi portal.