क्या BJP सांसद विजय गोयल ने कहा कि यूपी-बिहार के लोगों को दिल्ली आने से रोकना होगा? भ्रामक खबर

भाजपा सांसद विजय गोयल द्वारा दिए गए बयान पर इंडिया न्यूज़ की वीडियो रिपोर्ट सोशल मीडिया में प्रसारित है। उत्तर प्रदेश और बिहार से दिल्ली में आ रहे प्रवासियों के संबंध में यह बयान दिया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक, गोयल ने दिल्ली के मुद्दों को सुलझाने के लिए यूपी बिहार के लोगों का राजधानी में प्रवेश रोकने के लिए कहा था। एंकर ने गोयल के हवाले से एक बयान बताया है जिसके मुताबिक, भाजपा सांसद ने कहा कि ये लोग झुग्गी बस्तियों में रहते हैं और बाद में यह अवैध कॉलोनियां बन जाती है।

फेसबुक उपयोगकर्ता कमलेश यादव ने यह वीडियो पोस्ट करते हुए लिखा, “बीजेपी संसद विजय गोयल का विवादित बयान बिहार और यूपी वालो को दिल्ली आने से रोकना होगा अब बोलो भक्तो इस पर आपकी क्या प्रतिक्रिया है”। इस लेख को लिखते समय इस पोस्ट को 9,300 बार शेयर किया गया है।

 

बीजेपी सांसद विजय गोयल का विवादित बयान बिहार और यूपी वालो को दिल्ली आने से रोकना होगा अब बोलो भक्तो इस पर आपकी क्या प्रतिक्रिया है

Posted by Kamlesh Yadav on Thursday, 3 October 2019

फेसबुक पर कुछ अन्य उपयोगकर्ताओं ने इस वीडियो को समान दावे के साथ साझा किया है।

2014 की समाचार रिपोर्ट

ऑल्ट न्यूज़ ने पाया कि यह समाचार रिपोर्ट कम से कम पांच साल पुरानी है। इंडिया न्यूज के आधिकारिक यूट्यूब चैनल ने 1 अगस्त 2014 को इस वीडियो को प्रकाशित किया था, जिसका शीर्षक था, “बीजेपी आरएस विधायक विजय गोयल ने विवादास्पद बयान दिया, यूपी, बिहार के लोगों को दिल्ली में प्रवेश करने पर प्रतिबंध लगाया जाए।”-अनुवादित।

इंडिया न्यूज़ की भ्रामक खबर

भाजपा सांसद विजय गोयल के बयान को इंडिया न्यूज़ ने भ्रामक रूप से पेश किया था। जबकि गोयल ने टिप्पणी की थी कि प्रवासियों की बढ़ी हुई संख्या के कारण दिल्ली में कई समस्याएं पैदा हुई है, उन्होंने यह भी बताया कि बढ़ती संख्या का कारण पड़ोसी राज्यों में नौकरियों और शिक्षा के अवसरों का अभाव है। उन्हें यूपी बिहार के लोगों से कोई परेशानी नहीं है। उन्होंने बताया कि –“किसी को वहाँ पर अपना गांव छोड़ने की इच्छा नहीं होती, उसके सामने मज़बूरी है रोजी रोटी की और यहाँ पर आके उसे लगता है कि कोई उसको व्यापार और कामधंधा मिल जायेगा। तो वित्त मंत्रीजी , सबसे पहले तो हमारा दिल्ली के ऊपर सबसे बड़ा बोझ यह है कि ये छह लाख यहां पर ना आये इसकी व्यवस्था करनी है और इसकी व्यवस्था तब होगी जब NCR एरिया डेवलप होगा। उसकी व्यवस्था तब होगी जब दूसरे राज्यों के अंदर भी विकास होगा ।  ” आगे बताते हुए उन्होंने कहा कि प्रवासियों को रोकने के लिए दिल्ली विश्वविद्यालय की शाखाएँ अन्य राज्यों में भी खोली जानी चाहिए। इसमें उन्होंने ना केवल यूपी-बिहार का बल्कि राजस्थान और गुजरात का भी ज़िक्र किया था।

छह लाख का आंकड़ा गोयल ने 1982 के एशियाई खेलों के संबंध में दिया था, उनके अनुसार देश भर से मजदूर दिल्ली आए थे। उन्हें होल्डिंग ज़ोन में रहना था और जाना चाहिए था मगर उन्होंने यह नहीं किया। गोयल को यह कहते हुए सुना जा सकता है, “दिल्ली के अंदर धीरे-धीरे में झुग्गी झोपड़िया बसी। उसके बाद हर साल छह लाख लोग बाहर से आ जाते हैं और जिसमें सबसे ज़्यादा लोग बिहार और उत्तर प्रदेश से आते हैं।” उनके भाषण के इस हिस्से को इंडिया न्यूज़ ने गलत तरीके से प्रस्तुत किया। बीजेपी सांसद ने यह नहीं कहा कि यूपी-बिहार के लोगों के दिल्ली आने पर प्रतिबंध लगा दिया जाना चाहिए, लेकिन यह कहा था कि दिल्ली में रहने वाले अधिकांश प्रवासी इन राज्यों से हैं।

जहां तक ​​अवैध कॉलोनियों के बारे में उनके बयान का सवाल है, गोयल ने यूपी बिहार के लोगों को पूरी तरह से ज़िम्मेदार नहीं ठहराया था। नीचे पोस्ट किये गए वीडियो में गोयल को 1:35 मिनट पर यह कहते हुए सुना जा सकता है –“40-50 लाख लोग आज अनधिकृत कॉलोनियों में रहते हैं और उसमें उनकी गलती नहीं है। दिल्ली का जब इतने सालों तक पिछले 50-60 वर्षों  के अंदर विकास नहीं हुआ और पिछले वर्षों में हाउसिंग की समस्याओं को हल हीं नहीं किया गया हुईं…सरकार ने इनकी व्यवस्था नहीं की थी , में इनको सेल्फ मेड कॉलोनीज कहता हूँ। “

इंडिया न्यूज़ की पांच साल पुरानी एक भ्रामक समाचार रिपोर्ट सोशल मीडिया में इस दावे के साथ प्रसारित की गई कि गोयल ने यूपी बिहार के लोगों के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी की है।

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend