फ़ैक्ट-चेक : कोरोना से संक्रमित मां प्रोटेक्टिव गियर पहन कर बच्चे को गले लगा रही है?

पूरी दुनिया में कोरोना वायरस का संक्रमण बढ़ता जा रहा है. भारत में 21 दिनों के लॉकडाउन का आदेश जारी कर दिया गया है. इसी बीच कोरोना वायरस से जुड़े हुए कई दावे, तस्वीरों और वीडियो के ज़रिए शेयर किये जा रहे है.

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही ऐसी ही तस्वीर में हमें एक महिला दिखाई दे रही है जिसके साथ एक बच्चा भी है. महिला को पूरी तरह से प्रोटेक्टिव गियर से ढंका हुआ देखा जा सकता है. ये तस्वीर कोरोना वायरस से जुड़ी हुई बताकर शेयर हो रही है और साथ में लोगों से घर में ही रहने की सलाह भी दी गई है. साध्वी दया ठाकुर ने ये तस्वीर 24 मार्च को फ़ेसबुक पर शेयर की थी. उनकी इस पोस्ट को आर्टिकल लिखे जाने तक 1,300 बार शेयर किया जा चुका है.

ये तस्वीर फ़ेसबुक और ट्विटर, दोनों पर वायरल है. तस्वीर को शेयर करते हुए लिखा जा रहा है -“कोई शब्द है आपके पास ?? इसी लिए कहता हूँ “घर में रहो” बस…😭😭😭 सच मे रुला देने वाली तस्वीर है ये…..”

फ़ैक्ट-चेक

गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमने इस तस्वीर को तुर्की की एक वेबसाइट ‘gelecekegitimde’ के ट्विटर हैन्डल पर पाया. तस्वीर को 21 जुलाई 2019 को ट्वीट किया गया था. ट्वीट में बताया गया कि बच्चे को कैंसर है और महिला अपने बच्चे को प्रोटेक्टिव गियर पहन कर गले लगा रही है,

आगे सर्च करने पर हमें ये तस्वीर ‘pro.magnumphotos.com’ नामक वेबसाइट पर मिली. तस्वीर को वाशिंगटन के फ्रेड हचिंसन कैंसर सेंटर का बताया गया है. वेबसाइट के मुताबिक, ये तस्वीर 1985 की है. बच्चा लेमिनार एयर फ़्लो रूम में है जिस वजह से माँ ने प्रोटेक्टिव गियर पहना हुआ है. बच्चे के इलाज में उसका बॉन मेर्रो ट्रांस्पलेंट होने वाला हैं.

 

इस तरह कैंसर से जूझ रहे बच्चे को गले लगाती मां की तस्वीर सोशल मीडिया में कोरोना वायरस से जुड़ी हुई बातकर शेयर की जा रही है.

कोरोना वायरस संक्रमण पूरी दुनिया में फ़ैल रहा है. इस वायरस से संक्रमित लोगों का आंकड़ा 4 लाख तक पहुंच गया है और इस बीमारी के कारण मरने वाले लोगों की संख्या 16,000 हो चुकी है. भारत में कोरोना वायरस के करीब 560 केस हो चुके हैं. इस संक्रमण के साथ-साथ इससे जुड़ी हुई गलत सूचनाएं और घरेलू नुस्खे भी प्रसारित हो रहे हैं. कई लोग जाने-अनजाने में इन पर विश्वास करके अपनी जान जोखिम में डाल देते हैं. ऑल्ट न्यूज़ लगातार इन गलत सूचनाओं की सच्चाई सामने लाता है. ऑल्ट न्यूज़ की साइंस टीम भी कोरोना से जुड़े हुए भ्रामक दावों की पड़ताल कर रही है. हम अपने पाठकों से अनुरोध करते है कि व्हाट्सऐप और सोशल मीडिया में मिलने वाली किसी भी जानकारी पर आंखे बंद कर यकीन न करें. डॉक्टर की सलाह को फ़ॉलो करें और लॉकडाउन का पालन करें.

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend