राघव चड्ढा को फर्ज़ी अखबार क्लिप द्वारा जाट, गुज्जर और बिहारी विरोधी दर्शाया गया

एक समाचार पत्र की क्लिप को सोशल मीडिया पर कुछ यूज़र्स द्वारा साझा किया जा रहा है, जिसका शीर्षक है – “पंजाबी वोटर अगर मेरा साथ दें तो देहाती जाट गुज्जरों और बिहारियों को धूल चाटा दूंगा – राघव चड्ढा।”

पंजाबी वोटर अगर मेरा साथ दें तो देहाती जाट गुज्जरों और बिहारियों को धूल चटा दूंगा::AAP उम्मीदवार राघव चड्ढा

Posted by Bhumihar Sikandar Tiwari on Friday, 10 May 2019

इस पोस्ट के साथ साथ दक्षिण-पूर्वी दिल्ली के आप नेताओं के नाम भी साझा किये जा रहे है।

अखबार की फ़र्ज़ी क्लिप

राघव चड्ढा ने अपने अधिकारिक फेसबुक पेज पर इस पोस्ट को फ़र्जी बताया और कहा कि यह फोटोशॉप का काम है।

ये खबर बिल्कुल झूठी है, इस फोटोशॉप से बनाई न्यूस पर विश्वास ना करें। यदि फेसबुक पर दिखे तो इसे तुरंत रिपोर्ट करें।
This…

Posted by Raghav Chadha on Friday, 10 May 2019

यह ख़बर कई अन्य सबूतों के ज़रिये भी ख़ारिज की जा सकती है। इस ख़बर की गलत प्रस्तुति संदेह प्रकट करता है। इस पर मीडिया की रिपोर्टिंग की कमी की वज़ह से इसके झूठे होने पर शंका और बढ़ती है। इसे अख़बार के जैसे दिखाया गया है, हालांकि इसे ध्यान से देखने पर ही झूठ पकड़ा जा सकता है।

1. लेख में शब्दों की लेखनी और व्याकरण संबधी गलतियां है। लेख के शीर्षक में ही शब्द ‘चाटा’ को ‘चटा’ लिखा गया है। लेख
के दूसरे अनुच्छेद में शब्द ‘नहीं’ को ‘नही’ लिखा गया है। वाक्य, “एक जनसभा को सम्बोधित करते हुए चड्डा ने कहा की “यदि पंजाबी समुदाय का शत प्रतिशत वोट…” में अल्पविराम की कमी है।

2. लेख में तारीख मौजूद नहीं है।

3. इस लेख में रिपोर्टर का नाम नहीं दिया गया है। किसी भी समाचारपत्र के रिपोर्ट में या तो उसे लिखने वाले रिपोर्टर का नाम या फ़िर समाचार पत्र के ब्यूरो का नाम होता है। अगर लेख़ किसी न्यूज़ एजेंसी द्वारा मिली है, तो उस एजेंसी का नाम छापा जाता है – जैसे PTI, ANI इत्यादी।

4. लेख में दिख रहे वाक्य और अनुच्छेद श्रेणीबद्ध नहीं है।

नकली अखबारों की क्लिप के जरिए सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाना आम बात है। अख़बार के रूप में किसी भी सूचना को पेश करने से वो विश्वासपात्र बन जाता है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल पर भी झूठी अख़बार की क्लिप से निशाना साधा गया था।

अनुवाद: किंजल परमार

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend