6 ग़लत दावे जिनके आधार पर सुदर्शन न्यूज़ ने बनाया ‘UPSC जिहाद’ का पहला एपिसोड

सुदर्शन न्यूज़ ने 11 सितम्बर को केन्द्रीय लोक सेवा आयोग (UPSC) परीक्षा में मुस्लिम समुदाय से जुड़े लोगों की ‘घुसपैठ’ पर अपना विवादित शो ‘UPSC जिहाद’ चलाया. दिल्ली हाईकोर्ट ने…

ग़लत जानकारी और कट्टरपंथ की जोड़ी – समझें दिल्ली दंगों के भड़काऊ वीडियो में कही बातों के ज़रिये

विवादों से घिरे नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (2019) के ख़िलाफ़ राजधानी दिल्ली में चल रहा शांतिपूर्ण प्रदर्शन 23 फ़रवरी को हिंसा में बदल गया. हिंदू और मुस्लिम समुदाय के बीच एक…

बिजनौर के बुज़ुर्ग पर ‘बोतल में पेशाब कर फलों पर छिड़कने’ का फ़र्ज़ी आरोप लगाकर वीडियो शेयर किया गया

21 अप्रैल की सुबह से दो वीडियोज़ सोशल मीडिया पर बहुत ज़्यादा वायरल हुए हैं. दोनों में फल बेचने वाला एक बुज़ुर्ग व्यक्ति दिखता है. पहले वीडियो में वो अपने…

पालघर मॉब लिंचिंग : घटना को साम्प्रदायिक रंग देने की हुईं खूब कोशिशें, सोशल मीडिया पर चले ग़लत दावे

16 अप्रैल को, महाराष्ट्र के पालघर ज़िले के गडचिंचले गांव में सशस्त्र भीड़ ने तीन लोगों की पीट-पीटकर हत्या कर दी. ये गांव कासा थाना क्षेत्र के अंतर्गत आता है….

कैसे हैदराबाद में पशु चिकित्सक के रेप और हत्या को सोशल मीडिया पर सांप्रदायिक रंग दिया गया

27 नवंबर को एक 26 वर्षीय पशु चिकित्सक हैदराबाद से लापता हो गयी थी। उसके एक दिन बाद चटनपल्ली गांव के राष्ट्रिय हाईवे के अंडरपास के पास महिला चिकित्सक का…

अक्टूबर 2019: भ्रामक सूचनाएं प्रसारित करने में सबसे आगे रहीं मुख्यधारा की मीडिया

अक्टूबर 2019 में, मुख्यधारा मीडिया संगठनों द्वारा फैलाई गयी भ्रामक सूचनाओं के कई उदाहरण देखे गए। मुख्य घटनाओं को जानबूझकर या अन्यथा गलत तरीके से प्रस्तुत किया गया। इस महीने…

सुदर्शन न्यूज़ का सांप्रदायिक-विभाजनकारी गलत सूचनाओं का इतिहास

12 अगस्त को रेल मंत्री पीयूष गोयल ने सुरेश चव्हाणके को उनके मीडिया संगठन सुदर्शन न्यूज़ की 14वीं वर्षगांठ पर बधाई दी। गोयल ने लिखा, “मुझे विश्वास है कि आपका…

सुदर्शन न्यूज़ ने गलत खबर दी कि कमलेश तिवारी की हत्या के बाद असदुद्दीन ओवैसी ने डांस किया

20 अक्टूबर के प्रसारण के दौरान, सुदर्शन न्यूज के सुरेश चव्हाणके ने AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी को अपशब्द कहते हुए यह दावा किया कि, “चोरों और आतंकियो की मौत का…

सुदर्शन न्यूज़ ने एडिटेड वीडियो प्रसारित किया, कहा RSS कार्यकर्ता की हत्या के नारे लगे

“पूरे भारत मे मज़हबी उन्मादियों का खौफनाक रूप सड़को पर. नंगी तलवारों के साथ लग रहे नारे- चड्ढा चड्ढी वालों को, गोली मारो सालों को. मौत का इशारा @RSSorg व…

दिसंबर 2018: चुनावों के कारण भ्रामक सूचनाओं में बढ़ोतरी

दिसंबर में पांच राज्यों में विधानसभा के चुनाव हुए। आशंकाओं के अनुरूप, पूरे महीने, भ्रामक और विघटनकारी सूचनाओं का विषय राजनीति में बना रहा। दिलचस्प बात यह भी रही कि…